हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
टैक्स डिफॉल्टर प्रॉपर्टी की नहीं होगी रजिस्ट्री

अब टैक्स डिफाल्टर प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री नहीं कराई जा सकेगी। तहसील में रजिस्ट्री के वक्त ही रजिस्ट्री की तिथि तक के पुराना बकाया प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान करना होगा। इसके लिए नगर निगम के क्षेत्रीय कराधान कार्यालय की ओर से निगम कर्मचारियों की नगर निगम क्षेत्र के सभी तहसील कार्यालयों में ड़्यूटी लगाई गई है।

नगर निगम ने ऐसे प्रॉपर्टी टैक्स डिफॉल्टरों के लिए हाल ही में एक नई सुविधा की शुरुआत की है। इस बकाया प्रॉपर्टी टैक्स को भरने के लिए संपत्ति मालिकों या संपत्ति के खरीदारों को नगर निगम के चक्कर नहीं काटने होंगे। रजिस्ट्री करने से पहले तहसील कार्यालय में ही एक अस्थायी प्रॉपर्टी आइडी बनाकर बकाया टैक्स का भुगतान किया जा सकेगा। खास बात यह कि अस्थार्यी प्रॉपर्टी का आइकन नगर निगम की वेबसाइट पर भी दिया गया है। जहां से टैक्स भरने की प्रक्रिया की पूरी जानकारी दी गई है। ज्यादातर खाली प्लाटों से प्रॉपर्टी टैक्स रिकवरी नगर निगम के लिए आफत बनी हुई है।

करना होगा सेल्फ असेसमेंट

प्रॉपर्टी की कैटेगरी यानी रेजिडेंशियल, कामर्शियल या इंस्टीट्यूशनल के आधार पर प्रॉपर्टी टैक्स का निर्धारण भी खुद ही करना होगा। फॉर्म भरकर यह बताना होगा कि किस तरह की प्रॉपर्टी है। कब से टैक्स बकाया है, इन सबकी जानकारी देनी होगी। टैक्स का निर्धारण करने के अलावा डेकलरेशन यानी दिए गए ब्यौरे का घोषणा पत्र भी देना होगा।

35 हजार खाली प्लाटों पर बकाया है टैक्स

खाली प्लॉटों का टैक्स वसूलना नगर निगम के लिए चुनौती बन गया है। 35 हजार खाली प्लॉटों के मालिकों का रिकॉर्ड नगर निगम के पास भी उपलब्ध नहीं है। इन प्लॉटों की रजिस्ट्री के वक्त ही प्रॉपर्टी टैक्स मिलने की उम्मीद है। इसके लिए बकाया प्रॅापर्टी टैक्स वाली संपत्ति या खाली प्लाट की रजिस्ट्री नहीं की जाएगी। निगम क्षेत्र के गांवों की 42 हजार प्रॉपर्टी का भी टैक्स पिछले कई सालों से बकाया है। खाली प्लॉटों और गांवों की प्रॉपर्टी को मिलाकर करोड़ों रुपये का प्रॉपर्टी टैक्स बकाया है। बता दें कि नगर निगम को हर साल करीब 200 करोड़ रुपये से ज्यादा प्रॉपर्टी टैक्स मिलता है।

खाली प्लॉटों से इस दर से वसूला जाता है टैक्स

रेजिडेंशियल प्रॉपर्टीअब टैक्स डिफाल्टर प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री नहीं कराई जा सकेगी। तहसील में रजिस्ट्री के वक्त ही रजिस्ट्री की तिथि तक के पुराना बकाया प्रॉपर्टी टैक्स का भुगतान करना होगा। इसके लिए नगर निगम के क्षेत्रीय कराधान कार्यालय की ओर से निगम कर्मचारियों की नगर निगम क्षेत्र के सभी तहसील कार्यालयों में ड़्यूटी लगाई गई है।

नगर निगम ने ऐसे प्रॉपर्टी टैक्स डिफॉल्टरों के लिए हाल ही में एक नई सुविधा की शुरुआत की है। इस बकाया प्रॉपर्टी टैक्स को भरने के लिए संपत्ति मालिकों या संपत्ति के खरीदारों को नगर निगम के चक्कर नहीं काटने होंगे। रजिस्ट्री करने से पहले तहसील कार्यालय में ही एक अस्थायी प्रॉपर्टी आइडी बनाकर बकाया टैक्स का भुगतान किया जा सकेगा। खास बात यह कि अस्थार्यी प्रॉपर्टी का आइकन नगर निगम की वेबसाइट पर भी दिया गया है। जहां से टैक्स भरने की प्रक्रिया की पूरी जानकारी दी गई है। ज्यादातर खाली प्लाटों से प्रॉपर्टी टैक्स रिकवरी नगर निगम के लिए आफत बनी हुई है।

करना होगा सेल्फ असेसमेंट

प्रॉपर्टी की कैटेगरी यानी रेजिडेंशियल, कामर्शियल या इंस्टीट्यूशनल के आधार पर प्रॉपर्टी टैक्स का निर्धारण भी खुद ही करना होगा। फॉर्म भरकर यह बताना होगा कि किस तरह की प्रॉपर्टी है। कब से टैक्स बकाया है, इन सबकी जानकारी देनी होगी। टैक्स का निर्धारण करने के अलावा डेकलरेशन यानी दिए गए ब्यौरे का घोषणा पत्र भी देना होगा।

35 हजार खाली प्लाटों पर बकाया है टैक्स

खाली प्लॉटों का टैक्स वसूलना नगर निगम के लिए चुनौती बन गया है। 35 हजार खाली प्लॉटों के मालिकों का रिकॉर्ड नगर निगम के पास भी उपलब्ध नहीं है। इन प्लॉटों की रजिस्ट्री के वक्त ही प्रॉपर्टी टैक्स मिलने की उम्मीद है। इसके लिए बकाया प्रॅापर्टी टैक्स वाली संपत्ति या खाली प्लाट की रजिस्ट्री नहीं की जाएगी। निगम क्षेत्र के गांवों की 42 हजार प्रॉपर्टी का भी टैक्स पिछले कई सालों से बकाया है। खाली प्लॉटों और गांवों की प्रॉपर्टी को मिलाकर करोड़ों रुपये का प्रॉपर्टी टैक्स बकाया है। बता दें कि नगर निगम को हर साल करीब 200 करोड़ रुपये से ज्यादा प्रॉपर्टी टैक्स मिलता है।

खाली प्लॉटों से इस दर से वसूला जाता है टैक्स

रेजिडेंशियल प्रॉपर्टी