# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
बीपीएल श्रेणी के प्लॉटों की रजिस्ट्री करवाने के लिए प्रदर्शन

सोनीपत : बीपीएल श्रेणी के तहत प्लॉटों की रजिस्ट्री करवाने की मांग को लेकर गांव जागसी के ग्रामीण भड़क गए। ग्रामीणों ने बृहस्पतिवार को गोहाना रोड हनुमान मंदिर से लघु सचिवालय परिसर तक जुलूस-प्रदर्शन निकाला। साथ ही सरकार व प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर तहसीलदार को ज्ञापन भी दिया। इतना ही नहीं 15 दिन में प्लॉटों की रजिस्ट्री न करवाने पर उपायुक्त कार्यालय के बाहर धरना देने की चेतावनी भी दी।

पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में विभिन्न गांवों में ड्रा के माध्यम से आर्थिक गरीब लोगों को सौ-सौ गज के प्लाट दिए गए थे। प्रशासन द्वारा कई गांवों में लोगों के नाम रजिस्ट्री करवा कर निशानदेही के बाद प्लाटों का कब्जा दिया जा चुका है। गांव जागसी में दो पंचायतें हैं। तत्कालीन दोनों पंचायतों और पंचायत विभाग ने 189 ग्रामीणों के ड्रा के माध्यम से प्लाट निकाले थे। पूर्व दोनों पंचायत द्वारा ड्रा में जिन ग्रामीणों के नाम आए थे उनको निशानदेही करके प्लाट दे दिए गए। खास बात यह रही कि ग्रामीणों के नाम रजिस्ट्री तक नहीं करवाई गई। निशानदेही होने के बाद ग्रामीण प्लाटों में नींव भी भरवा चुके थे। वर्तमान दोनों पंचायतों ने पंचायती जमीन से अवैध कब्जे हटवाने के लिए पैमाइश करवाई। पैमाइश में पता चला कि जिस जगह पर आर्थिक गरीब लोगों को प्लाट दिए गए हैं उनकी रजिस्ट्री नहीं है और प्लाट अवैध हैं। गांव की दोनों पंचायतों ने पंचायत जमीन पर अवैध प्लाटों की नींवों को उखड़वा दिया।

जब ग्रामीणों को इस बारे में पता चला तो वे हैरान रह गए। नींव उखाडऩे से ग्रामीणों के हजारों रुपये बर्बाद हो गए और उनके प्लाट भी नहीं रहे। इससे ग्रामीणों में रोष बना हुआ है। ग्रामीणों ने बुधवार को जहां गांव में ही प्लॉटों की रजिस्ट्री देने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया था, वहीं बृहस्पतिवार को ग्रामीण लघु सचिवालय परिसर पहुंचे। इस दौरान ग्रामीणों ने तहसीलदार हितेंद्र शर्मा को जल्द रजिस्ट्री करवाने की मांग को लेकर ज्ञापन दिया। इस पर तहसीलदार ने उन्हें उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।