# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
जाट संघर्ष समिति का नाम बदल रखा राष्ट्रीय किसान आरक्षण संघर्ष समिति

सोनीपत : रेलवे रोड स्थित पीडब्ल्यूडी विश्राम गृह में रविवार को जाट आरक्षण संघर्ष समिति की बैठक हुई। बैठक की अध्यक्षता डॉ. राजेश दहिया ने की। इस दौरान समिति का नाम बदलकर राष्ट्रीय किसान आरक्षण संघर्ष समिति रखा गया। इसके साथ ही नई कार्यकारिणी का भी गठन किया गया।

इसमें सर्वसम्मति से मूलचंद दहिया को समिति का राष्ट्रीय अध्यक्ष चुना गया। इसके अलावा मेहर मलिक संरक्षक, डॉ. राजेश दहिया राष्ट्रीय महासचिव, महा¨सह देशवाल रोहतक अध्यक्ष, राजेंद्र हुड्डा उपाध्यक्ष, सत्यनारायण नांगल सोनीपत अध्यक्ष, प्रो. आत्मानंद रोहतक प्रभारी, नरेंद्र गन्नौर ब्लॉक अध्यक्ष व बलजीत ¨सह सोनीपत ब्लॉक अध्यक्ष चुने गए। उन्होंने सरकार द्वारा पिछड़ा आयोग को पेश किए गए नौकरी के गलत आंकड़े पेश करने का आरोप लगाया है।

इस अवसर पर डॉ. राजेश दहिया ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा पिछड़ा आयोग को जो नौकरी के आंकड़े पेश किए हैं, उनमें कमियां हैं। सरकार ने यह गलत आंकड़े पेश किए हैं। इससे साबित होता है कि सरकार जाट समेत छह जातियों को आरक्षण नहीं देना चाहती है। उन्होंने यशपाल मलिक पर राजनीति करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि यशपाल मलिक जाट समेत छह जातियों को आरक्षण दिलाने के बजाय अपनी राजनीति चमका रहे हैं। इनेलो भी उसका साथ दे रहा है। उनकी मांग है कि सरकार छह जातियों को बीसीबी में शामिल करने के साथ जेलों में बंद युवाओं को रिहा करके उन पर दर्ज मुकदमों को वापस ले। उन्होंने कहा कि भाजपा ने गुजरात में पटेलों को अलग करके अपनी सत्ता हासिल की है। इसलिए वह हरियाणा में ऐसा नहीं होने देंगे। इसके लिए वह राजनीतिक पार्टियों का साथ लेंगे। इसके अलावा 28 दिसंबर को पानीपत में भारतीय किसान यूनियन की बैठक में हिस्सा लेंगे। वहीं से आगामी रणनीति बनाई जाएगी