# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
पाकिस्तान से काफी आगे निकल चुका है बांग्लादेश

 गुरुग्राम भारतीय सेना की बदौलत 16 दिसंबर 1971 को दुनिया के पटल पर आया राष्ट्र बांग्लादेश आज पाकिस्तान से काफी आगे निकल चुका है। गारमेंट एक्सपोर्ट एवं ढांचागत विकास के मामले में वह पाकिस्तान ही नहीं बल्कि श्रीलंका, भूटान, नेपाल सहित कई देशों से आगे है। इतने कम समय में शायद ही किसी देश ने इतनी तरक्की की होगी।

बांग्लादेश की यात्रा से लौटे लेफ्टिनेंट जनरल (रिटा.) जेबीएस यादव ने मंगलवार शाम दैनिक जागरण से यात्रा की यादें साझा करते हुए ये बातें बताईं। भारत-पाक 1971 की लड़ाई के दौरान वह मेजर के पद पर रहते हुए कमां¨डग ऑफिसर की भूमिका में थे। लड़ाई के बाद पहली बार बांग्लादेश जाना हुआ। बांग्लादेश सरकार के आमंत्रण पर भारत सरकार ने उनके नेतृत्व में पूरे देश से 27 पूर्व सैन्य अधिकारियों को, जिन्होंने 1971 की लड़ाई में हिस्सा लिया था।

इतनी जल्द बांग्लादेश इतनी तरक्की कर लेगा, इसकी कल्पना शायद ही किसी ने की थी। आज पाकिस्तान उसके सामने कुछ भी नहीं है। ढांचागत विकास के ऊपर सबसे अधिक जोर दिया गया है। वहां के लोगों में अपने देश को आगे बढ़ाने का जज्बा दिखा। प्रधानमंत्री शेख हसीना भी देश को आगे बढ़ाने पर जोर दे रही हैं।

लेफ्टिनेंट जनरल यादव ने बताया कि बांग्लादेश का भारतीय सेना के प्रति अगाध सम्मान है। प्रतिनिधिमंडल का जिस तरीके से स्वागत किया गया, वह दर्शाता है कि भारतीय सेना ने बांग्लादेश के जन्म में जो भूमिका निभाई थी उससे वहां की सरकार एहसानमंद है। जल्द ही यात्रा की रिपोर्ट तैयार करके वह रक्षा मंत्रालय को सौंप देंगे।