# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
पॉश कालोनी के लोग भी बढ़े पेयजल शुल्क के विरोध में

 गुरुग्राम: हुडा विभाग द्वारा पानी के शुल्क में की गई बढ़ोत्तरी पॉश कॉलोनी के लोगों को भी खलने लगी है। अब लोग खुलकर विरोध भी कर रहे है। पिछले दिनों कई आरडब्ल्यूए संस्थाओं ने एकजुट होकर इसके खिलाफ एक ज्ञापन डीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री को भी सौंपा था और बढ़े हुए शुल्क को वापस लेने की मांग की थी, लेकिन इस बार जो बिल हुडा द्वारा भेजे गए है उनमें किसी प्रकार का कोई शुल्क नहीं घटाया गया है। ऐसे में लोग हर जगह इसका विरोध कर रहे है। हुडा सेक्टरों में भी और नए गुरुग्राम की पॉश कालोनियों में भी।

तीन माह पहले हुडा विभाग ने पानी के शुल्क में लगभग 300 प्रतिशत तक का इजाफा कर दिया। यह बढ़ोत्तरी लोगों को काफी चुभ रही है। डीएलएफ, सुशांत लोक, सनसिटी व अन्य पॉश कालोनियों में भी इसका विरोध किया जा रहा है और कई जगह इस शुल्क की अदायगी करने से भी लोग पीछे हट रहे हैं। डीएलएफ व अन्य पॉश कालोनियों में भी बढ़े हुए शुल्क को लेकर काफी विरोध है। पिछले दिनों हुडा विभाग की तरफ से शुल्क कम करने का आश्वासन भी दिया गया था लेकिन इस संबंध में आज तक कोई निर्णय नहीं लिया गया।

शुल्क में एक साथ इतनी बढ़ोत्तरी किसी भी तरीके से उचित नहीं है, सरकार यदि बढ़ाना भी चाहती है तो व्यवस्थित तरीके से बढ़ाए। यह तो जनता पर अपना निर्णय थोपने के बराबर है।

- प्रमोद शर्मा, निवासी सनसिटी

गर्मियों में पर्याप्त मात्रा में पानी की सप्लाई तक नहीं मिलती। शुल्क में इस प्रकार से बढ़ोत्तरी किसी भी तरीके से उचित नहीं है।

- राजीव कपूर, निवासी डीएलएफ फेज एक