# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
पुलिस चौकस, ग्रामीणों को स्कूल के पास आने की अनुमति नहीं

बरोदा : गांव खंदराई स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय की छात्रा की गुमनाम चिट्ठी का मामला तूल पकड़ने के बाद पुलिस चौकस हो गई है। मंगलवार को एक पक्ष की ग्रामीण महिलाएं विद्यालय पहुंची और दो शिक्षकों (दंपती) के तबादले पर एतराज जताया।

पुलिस ने महिलाओं को विद्यालय से दूर ही रोक दिया और चेतावनी दी कि विद्यालय पर ताला लगाने या माहौल खराब करने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। शहर थाना एसएचओ कुलदीप देशवाल ने महिलाओं को समझाते हुए कहा कि अगर आपको किसी बात को लेकर एतराज है तो अधिकारियों से जाकर मिलें। पुलिस की चौकसी के चलते विद्यालय का माहौल सामान्य नजर आया।

करीब पांच दिन पहले खंदराई गांव के राजकीय स्कूल की छात्रा की गुमनाम चिट्ठी पुलिस के पास पहुंची थी। इसके बाद से ही मामला तूल पकड़ गया था। सोमवार को एक पक्ष के ग्रामीणों ने विद्यालय के गेट पर ताला लगा कर दो शिक्षकों (दंपति) के तबादले की मांग की थी, जबकि दूसरे पक्ष के ग्रामीणों ने तबादले पर एतराज जताया था। डीइओ सुमन नैन ने माहौल शांत होने तक दोनों शिक्षकों को बीइओ कार्यालय में हाजिरी लगाने के निर्देश दिए। मंगलवार को दोनों शिक्षक विद्यालय न पहुंच कर बीइओ कार्यालय में हाजिरी लगाई।

दोनों शिक्षकों के विद्यालय न पहुंचने पर एक पक्ष की महिलाएं विद्यालय के पास पहुंची और शिक्षकों की इसी विद्यालय में ही नियुक्ति बरकरार रखने की मांग की। महिला गीता, सोनिया, प्रेमो व सुदेश ने कहा कि जिन व्यक्तियों के बच्चे इस विद्यालय में नहीं पढ़ रहे हैं वे ही राजनीति करते हुए शिक्षकों को बदलने की मांग कर रहे हैं। सुदेश, अंजु, पूनम, शीला व पुष्पा ने कहा कि उन्हें अपने बच्चों से पता किया है और दोनों शिक्षक अच्छे से पढ़ाई करवाते हैं। अब परीक्षा नजदीक है और अगर दोनों शिक्षकों का तबादला करना है तो परीक्षाओं के बाद किया जाए।

महिलाओं ने कहा कि शरारती तत्वों ने साजिश के तहत ही गुमनाम चिट्ठी के मामले को हवा दी जा रही है। पुलिस ने महिलाओं को विद्यालय में नहीं जाने दिया