# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
अचानक छुट्टी पर गए स्कूल के शिक्षक , कक्षाओं पर पड़ा ताला

सोनीपत : पिछले करीब दो साल तक वेतन न मिलने से नाराज शंभुदयाल स्कूल के सभी शिक्षकों ने बुधवार सुबह एक साथ छुट्टी ले ली। सुबह स्कूल पहुंचने के बाद शिक्षकों ने क्लासरूम में जाकर कक्षा लगाने के बजाए एक साथ छुट्टी लेकर घर जाने का फैसला लिया। इससे पहले वह एसडीएम जितेंद्र कुमार के पास पहुंचे और शिकायत की। शिक्षकों ने स्कूल प्रबंधन से वेतन न मिलने के कारण आ रही परेशानी के बारे में एसडीएम को बताया। इस पर एसडीएम जितेंद्र ने उन्हें मामले को गंभीरता से लेने और समाधान का आश्वासन दिया।

शिक्षकों द्वारा एकदम से छुट्टी पर चले जाने के कारण बच्चों को वापस घर लौटना पड़ा। इसकी वजह से उनकी पढ़ाई में रुकावट तो आई ही, साथ ही अचानक हुई छुट्टी से परिजनों को भी दिक्कतें उठानी पड़ी। स्कूल में ऐसे काफी छोटे बच्चे हैं, जिन्हें उनके अभिभावक स्कूल छोड़ने व दोपहर को छुट्टी होने पर वापस घर लेकर जाते हैं। ऐसे में उन परिजनों को अचानक हुई छुट्टी से काफी परेशानी उठानी पड़ी। एक दूसरे के माध्यम से ही छुट्टी होने का पता लगा जिससे वह बच्चों को घर लेकर गए। स्कूल में बच्चों व शिक्षकों के साथ ही ¨प्रसिपल भी अपने कक्ष में नहीं मिले, वहां भी कक्षाओं की तरह ही दिनभर ताला लटका रहा।

शंभु दयाल स्कूल किसी जमाने में शहर के सबसे बड़े व प्रमुख स्कूलों में गिना जाता था। समय के साथ ही यहां एडमिशन होने कम होने लगे। प्रबंधन के पास पैसे की कमी हुई, जिससे शिक्षकों का वेतन तक देना मुश्किल हो गया। इस समय हालात यह हैं कि विद्यार्थियों की फीस तो कम है जबकि शिक्षकों का वेतन अधिक देना होता है।