हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
पुलआउट लीड स्टोरी, नेट पर देरी से जारी करें

फरीदाबाद :समय : सुबह 11 बजे हैं और नजारा है, एनआइटी हार्डवेयर चौक का, जहां नगर निगम का तोड़फोड़ दस्ता दो अर्थमूवर मशीन व भारी पुलिस बल के साथ पहुंचा हुआ है। एकाएक अर्थमूवर मशीन एक भवन को तोड़ना शुरू कर देती है, निगम के कुछ कर्मचारी इसमें सहयोग करते हैं। दस्ते का नेतृत्व बड़खल क्षेत्र के एसडीएम रीगन कुमार बतौर ड्यूटी मजिस्ट्रेट कर रहे हैं और निगम के एसडीओ ओपी मोर सहित पुलिस के सहायक पुलिस आयुक्त स्तर के अधिकारी भी उनके साथ हैं। 11.30 बजे तक हल्की-फुल्की तोड़फोड़ का नजारा सामने आता है मगर तभी वहां एकत्र करीब 50 लोगों में से एक एसडीएम साहब को यह संदेश देता है कि उनसे विधायक सीमा त्रिखा बात करना चाहती हैं। एसडीएम साहब, उसकी बात को अनसुना कर देते हैं। इसके बाद वह व्यक्ति मोबाइल फोन पर कुछ बात करके शोर मचाता है कि खुद दीदी ही यहां आ रही हैं। यह सूचना तोड़फोड़ में लगे कर्मियों के कानों तक भी पहुंच जाती है। इससे तोड़फोड़ का काम भी धीमा हो जाता है। ठीक 11.51 बजे विधायक सीमा त्रिखा की गाड़ी आकर मौके पर रुकती है और वे सीधे एसडीएम रीगन कुमार की ओर मुखातिब होते हुए अपना 'दुर्गा' रूप दिखाती हैं। सीमा के इस 'दुर्गा' रूप को देखकर तोड़फोड़ दस्ता बैरंग हो जाता है।

भाजपा विधायक सीमा त्रिखा ने महज 5 मिनट में रुकवा दी तोड़फोड़

सुबह 11.52 से 11.57 बजे तक सीमा त्रिखा, एसडीएम और एसडीओ तोड़फोड़ के बीच हुए वार्तालाप के मुख्य अंश

सीमा त्रिखा- एसडीएम साहब, आपको सरो साहब ने दस फोन कर दिए, मैंने आपको फोन किए, आपने फोन नहीं उठाया क्यों?

एसडीएम- मैडम, तोड़फोड़ के दौरान हम मोबाइल फोन बंद रखते हैं।

सीमा- क्यों बंद रखते हो, यह गलत बात है। आप पब्लिक के साथ जो भी कुछ कर रहे हो गलत कर रहे हो, गैर-कानूनी कर रहे हो, नहीं मैं ऐसा नहीं होने दूंगी।

एसडीएम- मैडम, मैं तो यहां सिर्फ ड्यूटी मजिस्ट्रेट हूं, यह तोड़फोड़ नगर निगम के संबंधित ज्वाइंट कमिश्नर और डीसी साहब की चिट्ठी पर यहां खड़ा हूं। मैं आपको दोनों चिट्ठी दे देता हूं।

सीमा- संबंधित ज्वाइंट कमिश्नर की चिट्ठी नहीं मुझे नहीं चाहिए। पहले आप अपना फोन ऑन करो, 20 फोन मैंने किए हैं।

एसडीएम- मैम, मैं क्या हर अधिकारी तोड़फोड़ के दौरान मोबाइल फोन ऑफ रखते हैं।

सीमा- आप यह समझ रहे हैं कि ऐसे गलत काम करके सरकार आपका यहां से ट्रांसफर जल्द करवा देगी तो सुन लो ट्रांसफर तो आपकी यहां से होगी नहीं।

एसडीएम- देखिए, मैम.. मैं आपको बता रहा हूं..

सीमा- नहीं, नहीं, इस तरह ट्रांसफर नहीं होगी आपकी यहां से..

एसडीएम- आप गलत कह रही हैं मैम।

सीमा- नहीं, ये दादागिरी नहीं चलेगी।

एसडीएम- मैडम सुनो, मैं यह तोड़फोड़ नहीं करवा रहा हूं, यह संबंधित ज्वाइंट कमिश्नर की चिट्ठी पर कार्रवाई हो रही है। मैं आपको चिट्ठी दे देता हूं।

सीमा-पता नहीं आप कौन सी चिट्ठी देंगे, मगर 20 फोन आपको सरो साहब ने कर दिए, डीसी साहब ने कर दिए, आप फोन ही नहीं सुन रहे। तीर्थ ¨सह जी कहां हैं? एसीपी साहब कहां हैं यहां? तीर्थ ¨सह जी आप बताओ, आपको डीसी साहब ने पुलिस फोर्स वापस ले जाने को कहा है या नहीं? आप अब तक गए क्यों नहीं?

एसडीएम-मैडम, इन्होंने मेरे को यह सूचना दी मगर मैं हाथ जोड़कर आपसे यह रिक्वेस्ट कर रहा हूं, एक बार लिखित तौर पर यह आदेश आ जाएं कि यहां तोड़फोड़ नहीं होगी, तो मैं वापस चला जाऊंगा।

सीमा-नहीं, आप अपने सीनियर्स को जो ज्ञान देना चाहते हैं, वह भी लिखित तौर पर दें। देखिए, अगर आपके पास कोई कोर्ट के आदेश भी हैं तो भी मनोहर लाल सरकार यह कहती है कि जनता को एक मौका दिया जाना चाहिए।

एसडीएम- कोर्ट के आदेश नहीं हैं, तोड़फोड़ के आदेश हैं। यहां ऐसी कोई भीड़ नहीं है कि जहां पर बहुत सारे लोग रह रहे हों और पब्लिक एकत्र हो।

सीमा-आप क्या कह रहे हैं, एक व्यक्ति के जीवन भर की कमाई से बनाए मकान-दुकान आप मिनट में तोड़ दो, यहां दो-दो रुपये कमाने में लोगों की जान निकल रही है, आप कह रहे हैं कि यहां जनता नहीं रहती।

एसडीएम- मैडम, यहां कोई गरीब नहीं है।

सीमा- न न ना, ये सारे गरीब हैं, यही तो सोच है आपकी और हमारी।

एसडीएम- मैडम, मैं तो यह कह रहा हूं कि पहले तो यह गलत निर्माण हुआ कैसे, सब डिवीजन कैसे हुआ, इसमें तो एसडीओ, निगम प्रशासन को भी कार्रवाई करनी चाहिए। जब बन रही थी तभी तोड़ देनी चाहिए, मैं तो हमेशा यही कहता हूं।

सीमा- आप पहले कागज चेक करो, आप वहां से शुरू करो, जहां से यह गलती शुरू हुई है, यहां से नहीं।

एसडीएम- मैं वो भी करूंगा मैडम, मैं वो भी करूंगा।

सीमा-चलो जी चलो सब वापस चलो, यहां कोई तोड़फोड़ नहीं होगी, सब वापस हो जाओ, सारा हमारा वर्दी और बिना वर्दी का दस्ता, सब वापस। और आइंदा इस बात का ध्यान रखना, मोर भाई सुनो, तै, सस्पेंड होने का बड़ा शौक है, आइंदा, कोई कार्रवाई हो, हमारे इलाके में तो इलाके के विधायक को साथ में रखो, आपस में शामिल करो।