# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
पूर्व पार्टनर व उसके गुर्गों ने फार्म हाउस में खेला था मौत का खेल

संवाद सहयोगी, सोहना (गुरुग्राम): सोहना -बल्लभगढ़ रोड स्थित गांव खरोदा के समीप बने फार्म हाउस में तीन कर्मचारियों को मौत के घाट फार्म हाउस संचालक के पूर्व पार्टनर व उसके दो गुर्गों ने उतारा था। पुलिस ने तीनों आरोपियों को पकड़ लिया है। उन्हें बुधवार को अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा।

फार्म हाउस रामगढ़ निवासी श्यामवीर ¨सह का है। जिसे लीज पर खेड़ला गांव निवासी सत्यवीर ने ले रखा है। वह खेती के अलावा घास तैयार कर उसे ठेके पर लगवाता है। घास तैयार करने से लेकर लगाने का काम धर्मबीर (50) निवासी बिलौचपुर जिला पलवल, अलाउद्दीन खान (55) निवासी बुलंदशहर यूपी जिसका परिवार फिलहाल डबूआ कॉलोनी फरीदाबाद में रह रहा था। तथा मोहित (20)पुत्र हंस कुमार निवासी गांव महेशपुर थाना जिला उन्नाव कर रहे थे। तीनों की बृहस्पतिवार शाम गला दबाकर हत्या कर दी गई थी। तिहरे हत्याकांड के तह तक जाने में पुलिस की पांच टीम लगी थी। कड़ी जोड़ते हुए पुलिस का शक सत्यवीर के पूर्व पार्टनर इटावा यूपी निवासी दिलीप पर गया। दिलीप व सत्यवीर पहले मिलकर काम करते थे मगर दो साल से वे अलग हो गए थे। दिलीप ने यही काम शुरू किया पर सत्यवीर के मैनेजर धर्मवीर ¨सह की मेहनत के आगे उसे ग्राहक कम मिलते थे। दूसरा, दिलीप को सत्यवीर के चार लाख रुपये भी देने थे। बताते हैं कि सत्यवीर दिलीप से रकम मांग रहा था जिससे वह परेशान था। पुलिस के मुताबिक घटना वाले दिन दिलीप फार्म हाउस में आया और वहीं पर बैठकर शराब पी थी। नशे में होने के बाद उसने अपने गुर्गों के साथ एक-एक कर धर्मबीर,अलाउद्दीन खान व पंद्रह दिन पहले काम पर लगे मोहित की हत्या कर दी। उसे मारना धर्मवीर को था मगर राज खुलने के डर से तीनों को मार दिया। वारदात को अंजाम देने के बाद वे अपने वाहन में सामान लादकर इसलिए ले गए कि पुलिस मामले को लूटपाट से जोड़ कर देखे।