हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
MPHW का हल्ला बोल, स्वास्थ्य मंत्री के खिलाफ खोला मोर्चा

अंबाला : शुक्रवार को पूरे प्रदेश से अंबाला में जुटे बहु उद्देशीय स्वास्थ्य कर्मियों (एमपीएचडब्ल्यू) ने अपनी मांगों को लेकर स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ हल्ला बोल प्रदर्शन किया। सुबह से ही अंबाला के इंदिरा पार्क में जुटना शुरू हुए एमपीएचडब्ल्यू को सर्व कर्मचारी संघ समर्थन दे रहा था। पार्क में करीब सवा चार घंटे तक वक्ताओं ने प्रदेश सरकार विशेषकर स्वास्थ्य मंत्री को अपने निशाने पर लिया। करीब सवा दो बजे पार्क से जलूस की शक्ल में रवाना हुए। स्वास्थ्य मंत्री के आवास तक करीब डेढ़ किलोमीटर तक स्वास्थ्य मंत्री के पुतले की शव यात्रा निकाली। स्वास्थ्य मंत्री की आवासीय कालोनी पर खूब नारेबाजी की। यह धरना स्वास्थ्य मंत्री द्वारा एमपीएचडब्ल्यू व सर्वकर्मचारी संघ के नेताओं को बातचीत के लिए समय तय करने के बाद ही संपन्न हुआ। हालांकि, एकबारगी बातचीत बिगड़ती भी दिखी। इसके बावजूद एमपीएचडब्ल्यू ने साफ चेताया कि स्वास्थ्य मंत्री के आवास के उनके कार्यक्रम को फिलहाल स्थगित किया है और अब आंदोलन की दिशा 19 दिसंबर को दोपहर दो बजे स्वास्थ्य मंत्री व अफसरों से होने वाली आगामी बातचीत पर ही तय करेगी।

वहीं, एमपीएचडब्ल्यू के इस प्रदर्शन को लेकर पुलिस प्रशासन के पसीने छूटे रहे। पुलिस-प्रशासन को खुद भी इस बात का अंदाजा नहीं था कि इतनी तादाद में एमपीएचडब्ल्यू अंबाला में जुटेंगे। जिसको देखते हुए छावनी के इंदिरा पार्क पर खुद डीएसपी सुरेश कौशिक व छावनी थाना के प्रभारी पार्क पर ही डटे रहे। वहीं, स्वास्थ्य मंत्री की कोठी पर एसडीएम सुभाष चंद्र सिहाग व तहसीलदार राजेश पूनिया बंदोबस्त संभाले थे। जब एमपीएचडब्ल्यू व सर्वकर्मचारी संघ के कर्मचारी स्वास्थ्य मंत्री के आवास पर पहुंचे तो यहां कालोनी के सभी गेटों को बंद कर दिया गया। वहीं, मुख्य गेट पर बेरीकैड्स लगा दिए गए। इसके बावजूद कर्मी बैरीकेड्स पर चढ़ गए। पुलिस ने पुतले की अर्थी को ठिकाने लगाने चाहा तो कर्मी नहीं माने। अलबत्ता, कर्मियों की तादाद देखते हुए पुलिस ने नरमी ही बरती।इंदिरा पार्क में सुबह 10 बजे से दोपहर करीब डेढ़ बजे तक विभिन्न जिलों से एमपीएचडब्ल्यू पार्क में पहुंच रहे थे। अपने अपने जिले के बैनर व मांगों से जुड़ी तख्तियां हाथ में लेकर धरना स्थल तक नारेबाजी करते हुए पहुंचे। वहीं, धरना स्थल पर बहु उद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन की प्रदेशाध्यक्ष ओमपति कादियान, राज्य महासचिव हरिओम, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष लाजवंती, राज्य उप प्रधान प्रमोद बाला, पाल कौर, सर्व कर्मचारी संघ के आडिटर सतीश सेठी व सभी जिला प्रधानों ने अपनी मांगों को लेकर सरकार को जमकर कोसा। बाद में बाजारों से होते हुए स्वास्थ्य मंत्री के आवास तक पहुंचे।

इन मांगों को लेकर रहा गतिरोध

बहु उद्देशीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन ने 25 अगस्त 2015 को स्वास्थ्य मंत्री से हुई बातचीत के बाद मानी मांगों को लागू करने, एमपीएचडब्ल्यू, एमपीएचएस व एसएमआई के पदों को तकनीकी घोषित करने, पंजाब के समान वेतनमान लागू करने, आरसीएच के तहत कार्यरत एएनएम व एमपीएचडब्ल्यू को 2 वर्ष के अनुभव पर नियमित करने, नियमित किए जाने तक समान काम समान वेतन लागू करने, कैशलेस मेडिकल आदि सहित कुल 21 मांगों पर गतिरोध है।

स्वास्थ्य मंत्री से प्रतिनिधि मंडल की बिगड़ते बिगड़ते बनी बात

प्रतिनिधिमंडल से स्वास्थ्य मंत्री का कहना था कि वह दो दिनों में बता देंगे कि उन्हें बातचीत के लिए कब बुलाएंगे। जबकि प्रतिनिधिमंडल तुरंत तिथि निश्चित करने की बात कर रहा था। विज बोले,कि वह एकदम तय नहीं कर पाएंगे। अफसर भी बैठक में रहेंगे तो देखना होगा कि वह कब मौजूद रहेंगे। इस दौरान प्रतिनिधिमंडल से कुछ सदस्य भड़कते हुए बोले कि कर्मचारी तब तक कालोनी से नहीं उठेंगे जब बातचीत का वक्त तय नहीं होता। स्वास्थ्य मंत्री ने भी कह दिया कि वह चाहे तो चले जाएं और जब मर्जी तक धरना दें। कर्मी इस दौरान हक्के-बक्के थे। हालांकि, कुछ कर्मियों की सूझ बूझ से यह गतिरोध टल गया और कर्मियों को समय निश्चित कर दिया गया।