हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
वैष्णवी मर्डर: किशोर की उम्र पर बवाल, यूपी के सर्टिफिकेट खोल सकते हैं राज

अम्बाला.वैष्णवी हत्याकांड को अंजाम देने वाले किशोर की उम्र को लेकर बवाल पैदा हो गया है। वह बालिग है या नहीं, इसे लेकर जांच टीमें भी उलझी हुई हैं। मगर इस राज से वह कड़ी जरूर पर्दा उठा सकती है, जो किशोर की पिछली जिंदगी से जुड़ी है। ऐसे में परिवार काे बोर्ड के समक्ष एक याचिका दायर करनी होगी।


इसके बाद बोर्ड किशोर के यूपी से जुड़े सर्टिफिकेट मंगवाकर उसके बालिग या नाबालिग होने पर असली मोहर लगाएगा। मगर इससे पहले बोर्ड भी स्कूल सर्टिफिकेट को ही सच मानकर आगामी कार्रवाई पूरी करेगा।


गांव बोह में रहने वाली पांच वर्षीय वैष्णवी का कुछ दिन पहले खेलते-खेलते अपहरण हो गया था। जिसका काफी देर बाद पता चला। तभी एक पड़ोसी के पास यूपी नंबर से कॉल आया और उसने फोन पर वैष्णवी को छोड़ने की एवज में 20 लाख की फिरौती मांगी। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। काफी देर बाद पुलिस ने उस किशोर तक पहुंची, जिसने वैष्णवी का अपहरण किया था।


जब पूछताछ हुई तो पुलिस के हाथ वैष्णवी का शव लगा। क्योंकि किशोर पकड़े जाने के डर से उसकी पानी के टब में डुबोकर हत्या कर चुका था। लिहाजा पुलिस ने उसे गिरफ्तार करके जांच शुरू कर दी थी। पुलिस जांच में पाया गया कि वारदात को अंजाम देने वाला किशोर नाबालिग है और वह एक नामी स्कूल की 11वीं कक्षा में पढ़ रहा है। इधर, परिवार का कहना है कि वैष्णवी की निर्मम हत्या करने वाला किशोर बालिग है। उसके आधार कार्ड पर वर्ष 2001 का जन्म है तो स्कूल सर्टिफिकेट में वर्ष 2002 दर्ज है। इसी आधार पर परिवार ने पुलिस से किशोर के खिलाफ बालिग होने के तहत कार्रवाई की मांग की है, जिसे लेकर परिवार रोष मार्च भी निकाल चुका है। उनका कहना है कि किशोर ने जो अपराध किया है, वह जघन्य अपराध की श्रेणी में आता है और उसके लिए किसी तरह का रहम नहीं होना चाहिए। वैष्णवी की मम्मी ने मांग की है कि अपराधी की उम्र न देखकर अपराध के आधार पर सजा दी जाए।

कानूनी पचड़े में उलझी जांच
किसी भी किशोर की उम्र का पता लगाने के लिए पुलिस सबसे पहले स्कूल लिविंग सर्टिफिकेट को देखती है। अगर वह न हो तो पुलिस जन्म प्रमाण पत्र को आधार बनाती है। अगर वह भी नहीं मिलता तो कमेटी या अन्य किसी सरकारी रिकॉर्ड से जुड़े तथ्य को आधार मानकर कार्रवाई करती है। ये सब न मिलने पर ओसिफिकेशन टेस्ट करवाया जाता है। जांच उस पैमाने पर पहुंच जाती, लेकिन इससे पहले यूपी से जुड़े सर्टिफिकेट को चैक किया जा सकता है।

अगर परिवार बोर्ड के पास अर्जी लगाकर किशोर की उम्र को चैलेंज करता है तो बोर्ड किशोर के यूपी से जुड़े साक्ष्य मंगवा सकता है। उसके आधार पर आगामी कार्रवाई की जा सकती है।
अमित जैन, सदस्य, जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड अम्बाला।