# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
निवार फैक्ट्री में भीषण आग, दस घंटे में पाया काबू

गोहाना : शहर में महमूदपुर मार्ग स्थित अरिहंत निवार फैक्ट्री में बुधवार रात भीषण आग लग गई। देखते ही देखते आग तेजी से फैल गई। आग पर काबू पाने के लिए गोहाना के साथ सोनीपत से भी फायर ब्रिगेड की गाड़ियां बुलाई गई। करीब दस घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया जा सका। जब तक आग पर काबू पाया जाता, तब तक फैक्ट्री की मशीनें व धागे जल कर राख हो चुके थे। आग लगने का कारण शार्ट-सर्किट बताया गया है। आग लगते ही फैक्ट्री में काम कर रहे श्रमिकों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया।

शहर के जींद मार्ग स्थित रेलवे ओवरब्रिज निकट निवासी अनिल जैन व उनके भाई सुनील जैन महमूदपुर मार्ग पर अरिहंत के नाम से निवार फैक्ट्री चलाते हैं। अनिल के अनुसार बुधवार शाम वह फैक्ट्री से अपने घर चले गए थे। रात करीब दस बजे कर्मचारियों ने फैक्ट्री में आग लगने की सूचना दी। इसके बाद अनिल जैन व उनके भाई मौके पर पहुंचे। देखते ही देखते आग तेजी से फैल गई। गोहाना अग्निशमन केंद्र की फायर ब्रिगेड की गाड़ी आग पर काबू नहीं पा सकी तो सोनीपत से दो गाड़ियां बुलाई गई। फैक्ट्री के श्रमिकों व कर्मचारियों ने भी आग बुझाने में सहयोग दिया। आगजनी की घटना में मशीनें, तैयार व कच्चा माल जलने से लाखों रुपये का नुकसान हो गया।

फैक्ट्री में आग तेजी से फैल गई। इससे आसपास बने मकानों के लोग भी घबरा गए। फायर कर्मियों ने मकानों को खाली करने का आग्रह किया। जब तक आग काबू नहीं हुई, तब तक कई लोग अपने घरों के बाहर ही खड़े रहे।