हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
शहर में सड़कों और गलियों में पड़ा रहता है कूड़ा

झज्जर : शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर कभी कोई तो कभी कोई योजना बनाई जा रही है। लेकिन कोई भी योजना सिरे नहीं चढ़ पा रही है और शहर में जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। शहर की सफाई व्यवस्था पर हर माह नगर पालिका की तरफ से करीब 28 लाख रुपये खर्च किए जा रहे हैं। इसके बावजूद शहर गंदगी से अंटा पड़ा है। हर तरफ गंदगी के ढेर नजर आ रहे हैं। शहर की सफाई के लिए नगर पालिका में 147 कर्मचारी कार्यरत हैं। इनमें 126 कर्मचारी अनुबंध के आधार पर लगाए गए हैं। जबकि 21 पक्के कर्मचारी हैं। इतना होने के बावजूद शहर के अधिकांश वार्डों में तीन से चार सफाई कर्मचारी ही नजर आते हैं। जबकि शहर में 19 वार्ड हैं। इनके वेतन पर करीब 25 लाख रुपये हर माह खर्च हो रहे हैं। जबकि कूड़े के उठाने, कूड़ादानों को खाली करने पर करीब 3 लाख रुपये वेतन के अतिरिक्त खर्च हो रहे हैं। इतना होने के बावजूद समय पर कूड़ादानों को खाली नहीं किया जा रहा है। इसे देख ऐसा प्रतीत हो रहा है कि मानो शहर की सुदंरता को ग्रहण लग गया हो। शहर से हर रोज करीब 5 टन से अधिक कूड़ा निकल रहा है, लेकिन इस कूड़े को ठिकाने कैसे लगाया जाए यह समस्या नगर पालिका के सामने खड़ी है। एक तरफ जहां नगर पालिका के पास कूड़ा निस्तारण के लिए कोई ठोस व्यवस्था तक नहीं है। शहर से निकलने वाले कूड़े के निस्तारण के लिए अनेक बार योजनाएं बनाई गई, लेकिन सभी योजनाएं विफल हो गई। पहले झज्जर के कूड़े को बहादुरगढ़ ले जाने की योजना बनाई गई। वह भी सिरे नहीं चढ़ पाई है। शहर की हालत बदहाल हो चुकी है। जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे हुए हैं। नपा की ओर से शहर की सफाई व्यवस्था की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि सफाई व्यवस्था की पूरी जिम्मेदारी सफाई दरोगाओं को दी गई है। शहर के कूड़ादानों को समय पर खाली किया जा रहा है। वर्ष के सीजन में स्थिति और अधिक विकट होती जा रही है। कूड़ादानों के आसपास पड़ा रहता है। आम आदमी भी शहर की सफाई व्यवस्था के लिए जागरूक नहीं है। घरों या दुकानों से निकलने वाले कूड़े को या तो कूड़ादानों के बाहर फेंक दिया जाता है या फिर नालों में फेंक का अपने फर्ज की इतिश्री कर ली जाती है। नगर पालिका की तरफ से शहर में नए कूड़ादान खरीदने की योजना का प्रस्ताव नपा के हाउस की बैठक में पारित हो चुका है। लेकिन आज तक कूड़ादान खरीदे नहीं गए हैं। घर-घर कूड़ा एकत्रित करने के के लिए पांच टैंपों खरीदे जाने की योजना भी अभी तक अधर में लटकी हुई है।