हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
आठ के बजाय 24 घंटे हो रहा खनन, प्रशासन मौन

रादौर : यमुना नदी में अवैध खनन करने की शिकायतें करने के बावजूद खनन और ओवर लोड अधिकारियों, पुलिस व ठेकेदारों की मिली-भगत से रुकने का नाम नहीं ले रहा है। मामले की शिकायत सीएम और खनन मंत्री से करने के बावजूद जठलाना क्षेत्र में यमुना नदी से अवैध खनन हो गया है। इसके विरोध में जठलाना और गुमथला क्षेत्र के लोग कई बार सड़क पर उतर कर सरकार और प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन कर चुके हैं। इसके अवैध खनन नहीं रुक रहा है।

हरियाणा एंटी करप्शन सोसाइटी के प्रदेश अध्यक्ष एडवोकेट वरयाम ¨सह ने बताया कि अवैध खनन के विरोध में एक प्रतिनिधिमंडल 23 सितंबर को यमुनानगर में मुख्यमंत्री से मिला था। अब फिर प्रतिनिधिमंडल सबूतों के साथ चंडीगढ़ में जल्द मुख्यमंत्री से मिलकर जठलाना क्षेत्र में यमुना नदी के घाटों पर हो रहे अवैध खनन का मामला मुख्यमंत्री के समक्ष उठाएगा। नियमों के अनुसार यमुना नदी के घाट पर दिन में केवल आठ घंटे ही खनन किया जा सकता है, जबकि घाट के ठेकेदार 24 घंटे खनन करने में लगे हुए हैं। नियमों से अधिक खोदाई करने से तटबंध कमजोर होते जा रहे हैं। उससे बाढ़ आने पर जठलाना क्षेत्र के यमुना नदी किनारे बसे गांव के लोगों के आस्तित्व को खतरा पैदा हो गया है। ¨सचाई विभाग ने भी खनन विभाग को पत्र भेजकर इस बारे सचेत किया था कि ठेकेदार निमयानुसार खनन नहीं कर रहे हैं। उससे बाढ़ बचाव के कार्य प्रभावित हो रहे हैं।

वरयाम ¨सह ने बताया कि नियमानुसार घाट के ठेकेदारों को वर्ष में एक हजार पौधे लगाकर वातावरण को हरा-भरा करना था, परंतु ठेकेदारों ने ऐसा नहीं किया। क्षेत्र को वायु प्रदूषण से बचाने के लिए हरी-पट्टी विकसित की जानी थी, जो नहीं की गई। इसके लिए विशेष बजट भी रखा गया था। क्षेत्र के लोगों को ध्वनि प्रदूषण से बचाने के लिए मशीनों की मुरम्मत और समयानुसार बंद करना शामिल था, लेकिन मशीनों के हर समय चलने से क्षेत्र में ध्वनि प्रदूषण हो रहा है। जल प्रदूषण न हो इसके लिए खनन ठेकेदारों को हिदायत दी गई थी कि भूमिगत जलस्तर से ऊपर ही खनन करे, जबकि ठेकेदार पानी के अंदर खनन कर रहे हैं। उससे जल प्रदूषण हो रहा है। उससे क्षेत्र में जल प्रदूषण को कभी भी बड़ी बीमारी उत्पन्न हो सकती है। उन्होंने बताया कि प्रथम वर्ष में घाट के ठेकेदारों को एक हजार पेड़ लगाने थे, जिनमें से आठ सौ पेड़ों को ¨जदा रखना अनिवार्य था।

पेड़ों की प्रजाति में नीम, आम, शीशम, सिरस, बबूल, गुलमोहर आदि शामिल थे। कुल पांच वर्षो में पांच हजार पौधे लगाने और चार हजार पौधों ¨जदा रखने का भी सरकार ने प्रावधान किया है। ये पौधे सड़कों के किनारे, स्कूल, सार्वजनिक इमारत और सामाजिक स्थानों पर यह पेड़ लगाने अनिवार्य है