# क्रीमी लेयर के बहाने पदोन्नति में आरक्षण बंद नहीं कर सकते : मोदी सरकार          # मध्यपूर्व के लिए अमेरिकी शांति योजना स्वीकार्य नहीं : अब्बास         # पहले नोटबंदी फिर जीएसटी ने जनता की कमर तोड़ी : हुड्डा         # स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के खिलाफ कोर्ट पहुंचे सांसद दुष्यंत          # 300 से ज्यादा दलित परिवारों ने अपनाया बौद्ध धर्म         # भारत को विदेश में पहली बार जीत दिलाने वाले कप्तान अजीत वाडेकर का निधन         # नहीं रहे अटल बिहारी वाजपेयी , देश भर में शोक की लहर          # वाजपेयी के निधन पर बोले पीएम मोदी- मैं नि:शब्द हूं, शून्य में हूं         # 93 साल की उम्र में वाजपेयी का निधन, देशभर में शोक की लहर          # थोड़ी देर में अटल का पार्थिव ले जाया जाएगा कृष्णा मेनन मार्ग ते आवास पर         # वाजपेयी का निधन देश, राजनीति और भाजपा के लिए एक अपूर्णीय क्षति - मुख्यमंत्री मनोहर लाल        
News Description
3213 हेक्टेयर धान की फसल खराब, 1.5 लाख क्विंटल उत्पादन प्रभावित

सोनीपत: जिले में अबकी बार 1732 किसानों पर प्राकृतिक आपदा की मार पड़ी है और करीब 3213 हेक्टेयर में खड़ी धान की फसल खराब हो गई है। इससे जिला में धान का कुल उत्पादन करीब डेढ़ लाख क्विंटल तक प्रभावित हुआ है।

कृषि विभाग के अनुसार जिला में कुल उत्पादन और पैदावार का पूरा डाटा आने में समय लगेगा, लेकिन अब तक की हुई क्रॉप क¨टग रिपोर्ट के अनुसार जिला में एक हेक्टेयर में धान की पैदावार औसतन 50 क्विंटल आ रही है। यदि प्रकृति की मार नहीं पड़ती तो जिला व प्रदेश के अन्न भंडार में लगभग डेढ़ लाख क्विंटल का इजाफा होता।

 

जिला कृषि विभाग ने खरीफ सीजन के दौरान प्रकृति की मार से खराब हुई फसलों का सर्वे करवाकर रिपोर्ट मुख्यालय भेजी है, ताकि पीड़ित किसानों को प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत मुआवजा दिलाया जा सके। खराब हुई फसलों का सर्वे बीमा कंपनी से ही कराया गया है।

खरीफ सीजन के दौरान इस बार 24275 किसानों ने अपनी धान की फसल का बीमा कराया। इनमें मात्र 55 किसान ऐसे हैं, जिन्होंने कहीं से कोई कृषि ऋण नहीं लिया है। योजना के अनुसार जिन किसानों ने बैंक से ऋण लिया है या क्रेडिट कार्ड बनवाया हुआ है, उनकी फसलों का बीमा खुद ही हो जाता है और उनके अकाउंट से प्रीमियम की राशि कट जाती है।

खरीफ सीजन के दौरान बारिश से जिले के 1732 किसानों ने अपनी फसलों में नुकसान बताते हुए कृषि विभाग को आवेदन दिया था। इस पर कृषि अधिकारियों ने बीमा कंपनी से फसलों का सर्वे करवाया गया, जिसमें किसानों की फसलों में नुकसान पाया गया।