News Description
6 राज्यों में बसों का संचालन बंद करने के विरोध में रोडवेज कर्मचारियों का धरना

हरियाणारोडवेज की बसों का 6 राज्यों में संचालन बंद करने और 8200 कर्मचारियों को दिए गए लाभ वापस लेने के विरोध में रोडवेज कर्मचारियों ने शुक्रवार को फतेहाबाद डिपो प्रांगण में धरना दिया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। धरने की अध्यक्षता हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति की दोनों यूनियनों के डिपो प्रधान सूरजभान चोपड़ा मनोज कुंडू ने की। संचालन डिपो सचिव भागीरथ रामदिया ने किया। धरने को राज्य महासचिव तालमेल कमेटी के वरिष्ठ सदस्य सरबत सिंह पूनियां राज्य उपप्रधान सुरेन्द्र मलिक विशेष रूप से संबोधित किया। 

कर्मचारियों को संबोधित करते हुए कर्मचारी नेताओं ने सरकार को चेताया कि यदि सरकार ने 8200 कर्मचारियों को नियुक्ति तिथि से दिए गए लाभ वापस लेने संबंधी जारी पत्र वापस नहीं लिया और 6 अन्य राज्यों में जाने वाली बसों का संचालन बंद किया तो 2 दिसंबर को रोहतक में बैठक कर हरियाणा रोडवेज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति आर-पार के आंदोलन की घोषणा करेगी जिसकी सारी जिम्मेवारी प्रदेश सरकार की होगी। 

उन्होंने बताया कि सरकार कमेटी के नेताओं को बुलाकर बातचीत कर मानी गई मांगों को लागू करे जिसमें रोडवेज के बेड़े में 10 हजार नई बसें शामिल करना, चालक-परिचालकों की भर्ती करना, कर्मशाला में भर्ती करना, बोनस की स्थाई नीति बनाकर भुगतान करना, तबादला की स्थाई नीति बनाना, ठेकाप्रथा, आउटसोर्सिंग निजीकरण पर रोक लगाना, समान काम-समान वेतन सभी कर्मचारियों पर लागू करना आदि शामिल है। 

धरने को तालमेल कमेटी के सभी डिपो प्रधान ईश्वर सहारण, साधूराम, राजेश कुमार, लहरी राम, शेलेंद्र कन्हड़ी, सुभाष बिश्नोई, मोहन लाल, पवन सोनी, अनिल भाटिया, सूबे सोनी, नंदलाल, सत्यवान, उमेद, नरेश, शिव कुमार, गायत्री नंदन, सुभाष, गुरुदेव, माधव, पुरुषोत्तम, राजेश सेलवाल, शेलेंद्र ग्रोवर, राजाराम हुड्डा, नरेंद्र सोनी, कंवरपाल, चंद्रभान, श्याम लाल, दीपक, कीमत, सुनील आदि ने भी संबोधित किया।