#23 महीने बाद धोनी फिर बने टीम इंडिया के कप्तान         # जेटली का बैंकों को निर्देश : धोखाधड़ी करने वालों और डिफॉल्टरों के खिलाफ उठाएं सख्त कदम         #भाजपा के महाकुंभ में PM मोदी ने दिया मंत्र, मेरा बूथ सबसे मजबूत          # सर्जिकल स्‍ट्राइक का कमांडो संदीप सिंह शहीद, तीन आतंकियों को किया ढ़ेर          #100 रुपए प्रति लीटर हो सकता है पेट्रोल         #हरियाणा में बारिश से फसलों को हुए नुकसान के आंकलन के आदेश         #चौधरी देवीलाल किसानों और गरीबों के सच्चे हितैषी थे: दुष्यन्त चौटाला...          # सरकारी बैंकों के लाखों कर्मचारियों की कमाई पर पडऩे वाला है असर, चिट्ठी से मचा हडक़ंप         # तीन तलाक अध्‍यादेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल        
News Description
किसानों के लिए आए आठ करोड़ 29 लाख रुपये नियमों के भंवर में फंसे, होगे लैप्स

भाजपा सरकार ने वादा किया था कि हर खेत तक पानी पहुंचाया जाएगा, लेकिन तीन साल बाद भी उनका वादा अधूरा बना हुआ है। वैसे लोक दिखावा के लिए बजट भी जारी कर दिया गया, लेकिन नियम के चलते खाल का निर्माण नहीं किया जा रहा। बजट की उपलब्धता के बावजूद सिर्फ 23 खाल का निर्माण किया गया है। सरकार बजट देने के साथ नियमों में भी बदलाव करती तो दो फतेहाबाद व सिरसा जिले के 50 हजार किसानों को फायदा मिलता। परंतु प्रदेश सरकार ने अपनी निगरानी कमेटी के पदाधिकारियों की मांग को भी दरकिनार कर दिया। कमेटी के सदस्यों ने पिछले वर्ष नियम में बदलाव करने की मांग की थी। ऐसे में अब जारी बजट की राशि लैप्स होने का खतरा भी मंडराने लगा है। चूंकि सरकार नियमों में बदलाव करते के लिए सरकार तैयार नहीं है। ऐसे में इस वित्तीय वर्ष में रुपये खर्च होना मुश्किल भी लग रहे है। तो किसानों के लिए जारी आठ करोड़ 29 लाख रुपये की राशि लैप्स होगी ही।