#23 महीने बाद धोनी फिर बने टीम इंडिया के कप्तान         # जेटली का बैंकों को निर्देश : धोखाधड़ी करने वालों और डिफॉल्टरों के खिलाफ उठाएं सख्त कदम         #भाजपा के महाकुंभ में PM मोदी ने दिया मंत्र, मेरा बूथ सबसे मजबूत          # सर्जिकल स्‍ट्राइक का कमांडो संदीप सिंह शहीद, तीन आतंकियों को किया ढ़ेर          #100 रुपए प्रति लीटर हो सकता है पेट्रोल         #हरियाणा में बारिश से फसलों को हुए नुकसान के आंकलन के आदेश         #चौधरी देवीलाल किसानों और गरीबों के सच्चे हितैषी थे: दुष्यन्त चौटाला...          # सरकारी बैंकों के लाखों कर्मचारियों की कमाई पर पडऩे वाला है असर, चिट्ठी से मचा हडक़ंप         # तीन तलाक अध्‍यादेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल        
News Description
सर्वेक्षण पूरा होते ही फिर बिगड़ी सफाई व्यवस्था

 फतेहाबाद: स्वच्छ सर्वेक्षण का काम पूरा होने के बाद नगर परिषद प्रशासन फिर पुरानी आदत पर लौट आया है। कर्मचारी नियमित रूप से सफाई नहीं करते और अधिकारी मौके का जायजा लेना उचित नहीं समझते। अब बारिश होने के बाद हालात और ज्यादा बदतर हो गए हैं। पिछले सप्ताह जब स्वच्छ सर्वेक्षण टीम ने आना था, तब नगर परिषद के अधिकारी खूब भागदौड़ कर रहे थे। कर्मचारी भी सक्रिय नजर आ रहे थे। नियमित रूप से सफाई हो रही थी और कूड़ा प्वाइंटों पर भी कचरा एकत्र नहीं होने दिया गया। लेकिन सर्वेक्षण का काम पूरा होते ही फिर से सफाई व्यवस्था बिगड़ गई है। शहर के सामान्य बस स्टैंड के सामने सिरसा के लिए बसें खड़ी होती हैं। उस जगह पर सफाई व्यवस्था का हर समय बुरा हाल रहता है। बुधवार सुबह भी वहां पर कचरे के ढेर लगे हुए थे। यहां से लोगों के लिए गुजरना भी बेहद मुश्किल हो जाता है। बस स्टैंड शहर की मुख्य जगह है, जहां पर हर रोज हजारों लोग आते हैं। हजारों की संख्या में यहां से वाहन गुजरते हैं। इससे शहर की सुंदरता प्रभावित होती है। खास बात ये है कि यहां पर कोई कूड़ादान तक नहीं रखा हुआ। इसलिए लोग खुले में जाने वाले लोगों को परेशानी होती है। एमएम कॉलेज व मॉडल टाउन की तरफ जाने वाले लोगों को यहीं से गुजरना होता है। लोग गंदगी के कारण मुंह ढक कर निकलते हैं। यही हालत भूना रोड पर है। यहां पर कूड़ा दान भी स्थाई रूप से बना हुआ है ताकि कचरा सड़क पर न फैले। मगर कर्मचारी आसपास के लोग कूड़ा एकत्र कर यहां पर खुले में बिखरा देते हैं।की कूड़ा फेंकते हैं। उसमें पशु आकर मुंह मारते हैं, जिससे यह कूड़ा दूर तक बिखर जाता है। आने