#23 महीने बाद धोनी फिर बने टीम इंडिया के कप्तान         # जेटली का बैंकों को निर्देश : धोखाधड़ी करने वालों और डिफॉल्टरों के खिलाफ उठाएं सख्त कदम         #भाजपा के महाकुंभ में PM मोदी ने दिया मंत्र, मेरा बूथ सबसे मजबूत          # सर्जिकल स्‍ट्राइक का कमांडो संदीप सिंह शहीद, तीन आतंकियों को किया ढ़ेर          #100 रुपए प्रति लीटर हो सकता है पेट्रोल         #हरियाणा में बारिश से फसलों को हुए नुकसान के आंकलन के आदेश         #चौधरी देवीलाल किसानों और गरीबों के सच्चे हितैषी थे: दुष्यन्त चौटाला...          # सरकारी बैंकों के लाखों कर्मचारियों की कमाई पर पडऩे वाला है असर, चिट्ठी से मचा हडक़ंप         # तीन तलाक अध्‍यादेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल        
News Description
लैब संचालक हड़ताल पर, मरीज हुए परेशान

फतेहाबाद: मांगों को लेकर निजी लैब संचालक मंगलवार को हड़ताल पर रहे। जिले भर की करीब 400 लैब बंद रही। हड़ताल के चलते आउटडोर व इनडोर दोनों सेवाएं प्रभावित हुई। रक्त जांच व अन्य रोगों के टेस्ट करवाने के लिए आमजन को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। लैब संचालक प्रदेश स्तरीय प्रदर्शन में भाग लेने के लिए करनाल रवाना हुए। लैब संचालकों ने कहा कि अगर सरकार ने मांग न मानी तो आगे भी हड़ताल की जा सकती है।प्रधान पर¨वदर ¨सह प्रेस सचिव विपिन खुराना ने बताया कि सरकार ने लैब संचालकों के खिलाफ कड़े नियम बना दिए हैं जो सरासर गलत हैं और लैब संचालकों के साथ नाइंसाफी है। इन नियमों को पूरा करना लैब संचालकों के लिए बेहद कठिन है, इसको लेकर लैब संचालक पिछले कुछ दिनों से संघर्ष कर रहे हैं कुछ दिन पूर्व भी लैब संचालकों ने अपनी लैब की दुकानें बंद रख उच्च अधिकारियों को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन दिया था कि उन्हें नए कानूनों के तहत रियायत दी जाए। अभी तक कोई रियात ना मिलने के चलते हरियाणा भर के सभी लैब संचालकों ने अपनी लैब को बंद रखकर विरोध जताया है।

-------

मरीज हुए परेशान, नहीं हुए टेस्ट :

 

जिला में करीब 400 लैब हैं। जिसमें इनडोर व आऊटडोर शामिल हैं। लैब बंद होने से डॉक्टरों द्वारा लिखे गए टेस्ट करवाने के लिए मरीज भटकते रहे, यहां तक कि अस्पतालों में दाखिल मरीजों के भी टेस्ट नहीं हुए। जिला प्रधान राजीव सेतिया ने बताया कि सरकार ने लैब डिग्री होल्डर से हस्ताक्षर करने की पावर छीन ली है। लैब पर एमडी पैथोलॉजिस्ट होना चाहिए। अगर ऐसा होता है तो टेस्ट महंगे हो जाएंगे और लैब संचालकों का काम भी प्रभावित होगा।