हरियाणा में खेलों के स्वर्ण पदक विजेता को मिलेगा अब एचसीएस और एचप�         # बिहार की पूर्व सीएम राबड़ी देवी के घर पर सीबीआई का छापा         # विपक्ष के खिलाफ सरकार धरने पर, मोदी समेत BJP सांसद भूख हड़ताल पर         # 50 मीटर एयर रायफल में तेजस्विनी ने जीता सिल्वर मेडल          # बजट सत्र समाप्त, लोकसभा अनिश्चितकाल के लिए स्थगित...         # तकनीकी वजह से मेट्रो रेल सेवाएं प्रभावित...          # लिवरपूल ने 10 साल बाद सेमीफाइनल में बनाई जगह...          # स्वर साम्राज्ञी लता ने राज्यसभा के वेतन का चेक तक नहीं छुआ!...          # देश में नेशनल चिल्ड्रेन ट्रिब्यूनल की जरूरत : कैलाश सत्यार्थी         # 2022 तक हिमाचल को जैविक राज्य बनाने का लक्ष्य: डॉ. मार्कंडेय...          # छात्रों की करियर कौंसलिंग हेतु तैयार की जा रही योजना: अनुराग...          # सरकार द्वारा गैर मान्यता प्राप्त स्कूलों को नोटिस, बिफरे प्राईवेट स्कूल संघ संचालक...          # शहीदी स्मारक के लिए 25 को जारी किए जाएंगे टैंडर : स्वास्थ्य मंत्री         # पंजाब को केन्द्र सरकार का तोहफा, मोहाली मेडिकल कॉलेज को मिली हरी झंडी         # पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को 3,500 किताबें दान की...         # मुख्यमंत्री ने मांगी बटाला शुगर मिल के बारे में प्रोजेक्ट रिपोर्ट...          # बीएसएफ ने ढेर किया पाकिस्तानी तस्कर, 20 करोड़ की हेरोइन बरामद...          # अल्जीरिया का मिलिटरी प्लेन क्रैश, 257 से ज्यादा लोगों के मरने की आशंका...          हरियाणा में अब तक डेढ़ करोड़ एलईडी बल्ब वितरित...          भारत बंद : हिंसक घटनाओं की जांच के लिए हरियाणा में गठित होगी कमेटी...          प्रदेश की मंडियों में 16.66 लाख टन गेहूं की आवक...          राष्ट्रमंडल खेल: फाइनल में पहुंचे मुक्केबाज मनीष के घर में खुशी का माहौल...          सांसद दुष्यंत ने मंत्री विज को भेजा मानहानि का नोटिस...          फर्जीवाड़ा कर पेंशन लेने वालों से होगी 50 प्रतिशत की वसूली: खट्टर...          किसानों को राहत, बारिश से खराब फसलों की होगी स्पेशल गिरदावरी ..         आटो में छेड़छाड़ करने पर महिला कराटे चैंपियन ने की ट्रैफिक पुलिसकर्मी की धुनाई, घसीट कर ले गई थान         मुझे सरकार चलाना न सिखाएं सुखबीर : कैप्टन         वित्त मंत्री मनप्रीत बादल ने बांटी 65 लाख की ग्रांटें...         
News Description
करनाल में साथी कर्मचारियों के साथ हुए व्यवहार से क्षुब्ध दिखें

 झज्जर :अपनी मांगों को लेकर करनाल में प्रदर्शन कर रहे कंप्यूटर प्रोफेशनल के साथ किए गए व्यवहार से उनके साथी खासे नाराज है। कर्मचारियों की इस नाराजगी का असर सोमवार को जिला मुख्यालय पर भी दिखाई दिया। प्राय: पब्लिक डी¨लग की सीटों पर तैनात इन प्रोफेशनलस ने दिन भर अपने काम से हड़ताल रखी और लघु सचिवालय के समक्ष ही विरोध जताते हुए नारेबाजी भी की। विरोध जता रहे इन प्रोफेशनल का कहना था कि जब तक भाजपा की सरकार सत्ता में नहीं आई थी तो उनका एकमात्र कथन था कि जो भी कर्मचारी किसी भी रूप में कच्चे हैं, उन्हें सरकार आने के बाद पक्का कर दिया जाएगा। लेकिन अब हालात ऐसे हो गए है कि पक्का करना तो दूर। अपनी मांगों के लिए आवाज उठाने वाले कर्मचारियों पर लाठी भांजी जा रही है। सर्दी के मौसम में ठंडे पानी की बौछार मारते हुए उनकी आवाज को दबाया जा रहा है। प्रदेश भर में काम छोड़कर हड़ताल पर रहे इन प्रोफेशनल की सीटों से गैर मौजूदगी के कारण लोगों को अच्छी खासी परेशानी भी उठानी पड़ी। चूंकि हड़ताल को लेकर पहले कोई सूचना नहीं थी। इसलिए लोगों को दिक्कत भी हुई। उधर, इन प्रोफेशनल का कहना था कि वह जानबूझकर किसी को तंग नहीं करना चाहते। लेकिन जिस प्रकार का व्यवहार उनके साथ करनाल में हुआ है। वह अलोकतांत्रित व्यवहार है। यहां पर उन्होंने मुख्य रूप से मांग करते हुए कहा गिरफ्तार किए गए प्रोफेशनल को अतिशीघ्र रिहा किया जाए। इसके अलावा जब तक पक्का होने की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती। तक तक सामान काम और सामान वेतन दिया जाए।

एडीसी को सौंपा ज्ञापन

जिला भर में अपनी एकता का परिचय देते हुए कंप्यूटर प्रोफेशनल ने सरकार के व्यवहार को लेकर कड़े शब्दों में ¨नदा की। दिन भर हड़ताल पर रहने के बाद उन्होंने जिला प्रधान संदीप राठी की अगुवाई में अतिरिक्त उपायुक्त सुशील सारवान को मुख्यमंत्री के नाम पर प्रेषित एक ज्ञापन भी सौंपा। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि लाठी चार्ज करते हुए तानाशाही रवैया अपनाया गया है।

दो दिन की छुट्टी के बाद सोमवार को पब्लिक डी¨लग से जुड़ी सीटों पर अपने काम करवाने के लिए जब लोगों ने पहुंचना शुरू किया तो उन्हें निराशा हाथ लगी। एकबारगी उन्हें ऐसा भी लगा कि शायद उनके काम हो जाएंगे। लेकिन अपनी मांगों को लेकर एकजुट दिखें कंप्यूटर प्रोफेशनलस ने आज काम का पूर्ण रूप से बॉयकॉट ही रखा। जिसका असर यह हुआ कि लघु सचिवालय में

प्राय: सीटों पर जहां पब्लिक डी¨लग से जुड़े हुए कार्य होते हैं। वहां पर लोगों को परेशानी ही हुई।

इधर, धरने पर बैठे कर्मचारियो को संबोधित करते हुए सर्व कर्मचारी संघ के प्रतिनिधि ने कहा कि सरकार सार्वजनिक सेवाओं का निजीकरण करके निजी हाथों में सौपने पर आमादा है। सरकार कर्मचारियो की समस्या हल करने की बजाय उनकी एकता तोड़ने की नापाक कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि कर्मचारी एकजुटता के साथ संघर्ष करते हुए इस लड़ाई को जीतेंगे। उन्होंने मांग करते हुए कहा कि सरकार कंप्यूटर कर्मचारी संघ के शिष्टमंडल से द्विपक्षीय वार्ता करके समस्याओं का निदान करें व इनके खिलाफ दर्ज किए गए मामलों को वापिस लें। अगर ऐसा नहीं किया जाता तो आने वाले समय में आंदोलन की व्यापक स्तर पर रूपरेखा तैयार की जाएगी।