Main News Description
ट्रंप-जिनपिंग को पछाड़ PM मोदी बने दुनिया के तीसरे सबसे लोकप्रिय नेता

नई दिल्लीः दावोस (स्विट्जरलैंड) वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम की बैठक से पहले इंटरनेशनल रेटिंग एजेंसी गैलप ने भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को दुनिया का तीसरा सबसे लोकप्रिय नेता बताया है. दुनिया के 50 अलग-अलग देशों में हुए सर्वे के मुताबिकप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकप्रियता के मामले में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और रूसी राष्ट्रपति ब्लादमीर पुतिन और चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भी पीछे छोड़ दिया है. गैलप इंटरनेशनल ने इस सर्वे के लिए जिस मेथोडलॉजी का इस्तेमाल किया उनमें अलग-अलग देशों के तहत कुल 53 हजार 769 लोगों ने अपनी राय दी है. 

इन लोगों से इंटरव्यू के जरिए पसंदीदा शख्सियतों के बारे में राय पूछी गई थी. सर्वे में पीएम मोदी के पक्ष में 30 फीसदी लोगों ने अपनी राय जाहिर की जबकि 22 फीसदी लोगों ने उनके विपक्ष में राय जाहिर की थी. इस लिहाज से पीएम मोदी के पसंद और नापसंद का स्कोर +8 है और वो तीसरे नंबर पर हैं.

इस सर्वे में प्रधानमंत्री मोदी 8 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर है. जबकि 7 अंकों के साथ चौथे स्थान पर ब्रिटेन की पीएम थेरेसा मैरी मे हैं. इस लिस्ट में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग 6 के अंकों के साथ पांचवें स्थान पर है. सर्वे में सबसे ज्यादा 21 अंकों के साथ पहले स्थान पर फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मकरॉन हैं वहीं जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल प्लस 20 स्कोर के साथ दूसरे नंबर पर हैं.

इस सर्वे में रूसी राष्ट्रपति ब्लादमीर पुतिन को छठे, सऊदी अरब के किंग सलमान बिन अब्दुल्लाजीज साउ को सातवें और इजरायली प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू को आठवें स्थान पर रखा गया है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को 11वें नंबर पर रखा गया है. पोप फ्रांसिस को भी इस सर्वे में शामिल किया गया है. वो टॉप पर हैं. उन्हें प्लस 38 स्कोर दिए गए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहली बार स्विट्जरलैंड के दावोस में विश्व आर्थिक मंच के वार्षिक सम्मेलन में भाग लेंगे, जहां वह सम्मेलन के पहले पूर्ण अधिवेशन को संबोधित करेंगे. मोदी पांच दिन के इस सम्मेलन में वैश्विक निवेशकों को भारत में निवेश के विशाल अवसरों की ओर आकर्षित करने के साथ-साथ अपनी सरकार के नीतियों और कार्यक्रमों की भी जानकारी देंगे. पांच दिन चलने वाला सम्मेलन 22 जनवरी को शुरू होगा. आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार वह 23 जनवरी को सम्मेलन के पहले पूर्ण अधिवेशन को संबोधित करेंगे