News Description
भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी की भक्ति से बनते है बिगड़े हुए काम

झज्जर : परम संत स्वामी हंसप्रकाश जी महाराज की याद में प्रति वर्ष आयोजित होने वाले धार्मिक कार्यक्रम की कड़ी में शुक्रवार को शहर के मोहल्ला चौधरियान में सुंदरकांड पाठ का आयोजन हुआ। जिसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भगवान के नाम का स्मरन करते हुए हनुमान जी की स्तुति की। पंडित वीरेंद्र शर्मा एवं पार्टी ने बड़े ही सुंदर ढंग से

भगवान श्री राम भक्त हनुमान जी के निमित यह पाठ किया।

सुंदरकांड पाठ के दौरान उन्होंने अपनी बात रखते हुए कहा कि सुन्दरकाण्ड का पाठ करने से पहले ये मन में विश्वास रखे की जैसे हनुमानजी ने श्री राम जी के सब काज सवारे हमारे भी सब कष्ट हरेंगे। यह बात बाबा प्रशाद गिरी जी मंदिर के महंत परमानंद गिरी जी महाराज ने शहर की पंजाबी धर्मशाला में आयोजित सुंदरकांड पाठ के दौरान उपस्थित श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कही। वीरेंद्र शर्मा ने कहा कि सुंदरकांड में तीन श्लोक, साठ दोहे तथा पांच सौ छब्बीस चौपाइयां हैं । साठ दोहों में से प्रथम तीस दोहों में विष्णुस्वरूप श्री राम के गुणों का वर्णन है । सुंदर शब्द इस कांड में चौबीस चौपाइयों में आया है । सुंदरकांड के नायक रूद्रावतार श्रीहनुमान हैं ,सुन्दरकाण्ड के पाठ से बहुत सारे लाभ होते है। हर वर्ग के लिए इस पाठ के अलग-अलग मायने निकलकर सामने आते है। इसका पाठ करने से विद्यार्थियों को विशेष लाभ मिलता है। ये आत्मविश्वास में बढोत्तरी करता है और परीक्षा में अच्छे अंक लाने में मददगार होता है, बुद्धि कुशाग्र होती है, अगर बहुत छोटे बच्चे है तो उनके माता या पिता उनके लिए इसका पाठ करें। इसका पाठ मन को शांति और सुकून देता है मानसिक परेशानियों और व्याधियों से ये छुटकारा दिलवाने में कारगर है। सत्संग कार्यक्रम के बाद भंडारे का आयोजन हुआ। जिसमें सैंकड़ों की संख्या में श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया।