# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
वजीरपुर टिटाना में पंचायती जमीन का पंट्टा रद

समालखा : खंड के गांव वजीरपुर टिटाना में 14 एकड़ पंचायती जमीन का पंट्टा रद कर दिया गया। अब नए सिरे से दोबारा इसका पंट्टा होगा। पंट्टा रद करने की कार्रवाई ग्रामीण दीपक की शिकायत की जांच के बाद की गई है। दीपक का आरोप है कि सरपंच ने पंचायती जमीन की सही तरीके से बोली नहीं की।

कम बोली देने वाले को 14 एकड़ जमीन का पंट्टा दे दिया, जबकि उसके अधिक बोली लगाने वालों को भनक नहीं लगने दी। वहीं सरपंच जसवीर सिंह ने कहा कि बीडीपीओ की अनुमति लेने सहित दस्तावेजी कार्रवाई पूरी करने के बाद बोली करवाई गई थी। बोली में 30 से 35 लोगों ने भाग लिया था। पेड़ कटने के बाद उक्त पंचायती जमीन 2011 से बंजर थी। उसमें कोई फसल नहीं बोई जा रही थी। सबसे अधिक 1.41 हजार रुपये की बोली देने वाले को वह दे दी गई।

बाजार में 30 हजार रुपये एकड़ की औसत बोली : किसानों के अनुसार जिले में 25 से 30 हजार रुपये प्रति एकड़ के हिसाब से काश्त करने वाली जमीन की बोली आम तौर पर लग रही है। धान की अच्छी पैदावार होने इस बार पंट्टे की रकम बढ़ गई है। जमीन भले बंजर भी हो तो उसकी बोली 20 हजार रुपये प्रति एकड़ प्रति वर्ष से कम नहीं हो सकती। खेत में पानी की सुविधा होना भी जरूरी है।

जांच के बाद हुई है बोली रद : खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी ऋतु लाठर ने कहा कि शिकायत के बाद मामले की जांच करवाई गई तो बोली में खामियां मिली। उस रिपोर्ट के आधार पर उपायुक्त ने उसे रद कर दिया। अब दोबारा उसकी बोली करवाई जाएगी