News Description
घरौंडा क्षेत्र में 171 करोड़ से करवाएं जा रहे विकास कार्य : विधायक हरविन्द्र

करनाल 05 जनवरी, घरौंडा के विधायक एवं हैफेंड के चेयरमैन हरविन्द्र कल्याण ने बताया कि घरौंडा   विधानसभा में लोक निर्माण विभाग द्वारा पिछले तीन साल में करीब 171 करोड़ 16 लाख से विकास कार्य करवाएं जा रहे है,जिनमें से अधिक्तर का काम पूरा हो गया है और शेष कार्य प्रगति पर है।   
विधायक ने बताया कि घरौंडा विधानसभा क्षेत्र में करीब 3 करोड 33 लाख रूपये की लागत से मधुबन में ऑबजरवेशन होम का निर्माण, करीब 4 करोड 3 लाख रुपये की लागत से राजकीय महाविद्यालय ज्ञानपुरा में साईस ब्लॉक का निर्माण, घरौंडा में करीब एक करोड 48 लाख रुपये की लागत से तहसील भवन में रिहायशी  मकानों का निर्माण, मधुबन में करीब 4 करोड 16 लाख रुपये की लागत से बच्चों के लिए निरीक्षण गृह का निर्माण, कुटेल गांव में करीब 5 करोड 73 लाख रुपये की लागत से मैडिकल विश्वविद्यालय की चारदिवारी का निर्माण, गांव बरसत के  प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में करीब 5 करोड 22 लाख रुपये की लागत से रिहायशी मकानों का निर्माण, गांव चौरा, गुढ़ा व खरखाली में करीब 10 करोड 80 लाख रुपये की लागत से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के भवनों का निर्माण का कार्य प्रगति पर है। 
उन्होंने बताया कि आईटीआई के भवन के निर्माण करीब 9 करोड 13 लाख रुपये की लागत से तथा घरौंडा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ट्रामा सेंटर के भवन का निर्माण एक करोड 39 लाख रुपये की लागत से किया जाएगा। इन कार्यों के लिए टैन्डर हो चुके है।   इसी प्रकार मुख्यमंत्री घोषणा के अनुसार घरौंडा के लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह का विस्तारीकरण  2 करोड 62 लाख 41 हजार रुपये में,  राजकीय महाविद्यालय जैनपुरा एनसीसी अकादमी के भवन पर 56 करोड 94 लाख रुपये खर्च किए जाएगें। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र नगला के भवन निर्माण पर 3 करोड 60 लाख रुपये, कोहड-असंध रोड पर उपरगामी पूल बनाने के लिए करीब 50 करोड रुपये खर्च किया जाएगा। ज्ञानपुरा में वर्तमान राजकीय महाविद्यालय के भवन के नवीनीकरण पर एक करोड 19 लाख 88 हजार रुपये खर्च किए जाएगें।  इन विकास कार्यों पर शीघ्र ही निर्माण कार्य आरम्भ हो जाएगा। 
विधायक हरविन्द्र कल्याण ने कहा कि घरौंडा विधानसभा क्षेत्र में करोड़ों रूपये के विकास कार्य करवाएं गए है। विधानसभा क्षेत्र की ऐसी सडक़े,जिन्हें कभी किसी भी पार्टी की सरकारों ने बनाने की जहमत नहीं उठाई थी,अब ऐसी सडक़ों को प्राथमिकता के आधार पर बनाकर लोगों को राहत दी जा रही है।