News Description
इजराइल के सहयोग से प्रदेश में शुरू किए जाएंगे एक्सीलेंट सेंटर : धनखड़

रोहतक : कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने कहा कि इजराइल की तर्ज पर प्रदेश में ¨सचाई प्रणाली अपनाने के लिए 14 पायलेट प्रोजेक्ट शुरू करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया। इनमें से चार पायलेट प्रोजेक्ट शुरू किए जा चुके है तथा आगामी मार्च तक शुरू कर दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि इनके माध्यम से किसानों को हर खेत में बेहतर ¨सचाई व्यवस्था मिलेगी तथा पानी की भी बचत होगी। धनखड़ बृहस्पतिवार को जिला परिवदेना समिति की बैठक के बाद पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि आगामी वर्ष में 140 ¨सचाई के प्रोजेक्ट लगाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया था, लेकिन भाजपा सरकार ने यह लक्ष्य कम मानते हुए पिछले सप्ताह मंत्रीमंडल की बैठक में 1400 प्रोजेक्ट लगाने का प्रस्ताव पास किया है। उन्होंने कहा कि विदेशों की तरह यदि किसान 200 से 500 एकड़ तक का समूह बनाकर इस प्रणाली को शुरू करते है तो यह उनके लिए बहुत ही कारगर साबित होगी। इसके तहत आधा खर्च सरकार द्वारा वहन किया जाएगा तथा सभी तरह की तकनीकि उपकरण एवं अन्य सामग्री भी मुहैया करवाने का खर्च उठाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस योजना से प्रदेश के किसानों को कृषि क्षेत्र में दी जा रही सब्सिडी भी कम होगी तथा कृ़षि नलकूपों को दी जा रही बिजली की भी बचत होगी। उन्होंने टीवी चैनलों से अनुरोध किया कि वे ¨सचाई पायलेट परियोजना को विस्तार से दिखाए ताकि किसान इसका लाभ जल्द ले सकें। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि किसान के हित के मामले में वर्तमान सरकार से बेहतर कोई सरकार नहीं। भाजपा सरकार ने सदैव किसान हित को सर्वोपरि रखा।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के दस साल व इनेलो के सात साल व वर्तमान सरकार के तीन साल के कार्यकाल की सभी क्षेत्रों में तुलना करके जनता के समक्ष पेश करनी चाहिए। ताकि जनता को वास्तविक स्थिति का पता चल सकें। उन्होंने कहा कि नलकूप बिजली कनेक्शन मुहैया करवाने के लिए बिजली बोर्ड द्वारा व्हाटसएप ग्रुप बनाने का सुझाव दिया गया।