# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
कलानौर पुलिस ने पकड़े गोतस्कर, 14 गोवंश बरामद

कलानौर : बेरी-महम मुख्य मार्ग पर कॉलेज मोड़ के पास पुलिस ने नाका लगाकर बृहस्पतिवार की सुबह गोतस्करों को काबू किया है। ट्रक को रुकवा कर जब पुलिस ने चेक किया तो 14 गोवंश पकड़े गए। पुलिस ने आरोपियों और ट्रक को कब्जे में लेकर पूछताछ शुरु कर दी है।

पुलिस को सूचना मिली थी कि एक ट्रक पंजाब से गोवंश को भरकर कलानौर के रास्ते उत्तर प्रदेश जा रहा है। दो पीसीआर के साथ थाना प्रभारी कालेज मोड़ पर पहुंचे और नाका लगा दिया। थोडी देर में महम की ओर से एक ट्रक आता दिखाई दिया इस पर पुलिस ने उसे रूकने का इशारा किया। ट्रक चालक ने ट्रक को यह सोचकर रोक दिया। पुलिस ने जब ट्रक चालक से पूछताछ की तो उसने गोलमाल जवाब देकर पुलिस को गुमराह करने की कोशिश की। पुलिस ने शक के आधार पर ट्रक की तलाशी ली तो उसमें 14 बैल भरे हुए थे। पुलिस ने ट्रक ड्राइवर शामली निवासी नौशद और परिचालक नईम को काबू किया। फिर, ट्रक को अपने कब्जे ले लिया। पुलिस ने दोनों के खिलाफ पशु अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस की आंख में धूल झोंकने के मकसद से गोतस्कर एसी ट्रक में गोवंश को लादकर उत्तर प्रदेश ले जा रहे थे। उन्होंने ट्रक के फर्श पर प्लास्टिक का तिरपाल बिछा रखा था और उसके ऊपर जूट की बोरियां बिछा रखी थी। बताया जाता है कि बोरियां इसलिए बिछाई गई थी ताकि अगर रास्ते मे कोई गोवंश मल-मूत्र का त्याग करे तो उसके कारण कोई पता न लगा पाए।

पुलिस आठ घंटे तक बेजुबान पशुओं को मुक्त करवाना ही भूल गई। किसी को भी उनपर तरस नहीं आया। पुलिस ट्रक को अपने साथ थाने में ले आई। सुबह छह बजे से लेकर करीब दो बजे तक ट्रक उसी हालत में खड़ा रहा है। पुलिस कागजी कार्रवाई में लगी रही। इस दौरान न तो पुलिस ने गोवंश को बाहर निकाला और न ही पानी और चारे की व्यवस्था की