News Description
देशभक्ति के नारों की बीच हुई सैनिक की अंत्येष्टि

पलवल : जय जवान-जय किसान तथा भारत मां की जय के नारों के बीच बृहस्पतिवार को सेना की इंजीनिय¨रग रेजीमेंट में कार्यरत राज कुमार रावत का शहर के माल गोदाम रोड स्थित मुक्तिधाम में अंतिम संस्कार कर दिया गया। इससे पहले उन्हें सेना की जाट रेजीमेंट ने सलामी दी। इस अवसर पर शोक धुन भी बजाई गई।

45 वर्षीय पलवल निवासी राजकुमार ड्यूटी के दौरान हृदयगति रुकने से मौत हो गई थी। वे गुजरात के जाम नगर के इंजीनियरिंग शाखा में सूबेदार के पद पर कार्यरत थे। शहीद राजकुमार का पार्थिक शरीर पहले मोहन नगर स्थित उनके निवास पर लाया गया। इस अवसर पर पलवल के तहसीलदार अनिल कुमार व डीएसपी सुरेश कुमार मौजूद थे। 

इससे पहले उनकी मौत की सूचना उनके परिवार को दे दी गई। शहीद राजकुमार गांव अहरवां के रहने वाले थे तथा फिलहाल अपने परिवार के साथ मोहन नगर में रहते हैं।

सेना में दिल्ली जाट रेजीमेंट के अधिकारी नबाब ¨सह ने बताया कि सूबेदार राजकुमार ऑफिस में सैनिकों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी दौरान उन्हें दिल का दौरा पड़ा। बाद में उनकी मृत्यु हो गई। उन्हें शहीद का दर्जा दिया गया है। राजकुमार की मौत की सूचना मिलते ही उनका भाई दीपराम जाम नगर में पहुंच गया तथा वहां से फ्लाइट के द्वारा उनके शव को दिल्ली लाया गया तथा वहां से सेना की एंबुलेंस व जाट रेजीमेंट 11 के सैनिक शव को लेकर पलवल उनके निवास पर पहुंचे। शहीद राजकुमार के निवास पर आसपड़ोस के लोगों के अलावा उनके परिवार के लोग भी मौजूद थे। शव को उनके घर पर थोड़ी देर उनके परिवार के लोगों को दिखाने के बाद पूरे राजकीय सम्मान के साथ जुलूस के रूप में स्वर्गाश्रम तक ले जाया गया। शव यात्रा के दौरान मौजूद लोग व उनके रिश्तेदार भारत माता की जय तथा शहीद राजकुमार अमर रहे के नारे लगाते रहे।

मुक्तिधाम में मुखाग्नि शहीद राजकुमार के भाई सुभाष व उनके पुत्र ने दी। दिल्ली जाट रेजीमेंट में सूबेदार नवाब ¨सह के नेतृत्व में आए सैनिकों ने शहीद के पार्थिव शरीर पर पुष्प चक्र अर्पित भी किए। उनके अलावा शहीद के पार्थिव शरीर भाजपा नेता अविनाश शर्मा, पार्षद पति जगराम व शहीद के छोटे भाई दीपराम ने भी पुष्प चक्र अर्पित किया। शहीद राजकुमार अपने पीछे पत्नी, तीन बेटियां व एक बेटा छोड गए है।