News Description
गुरु गोविंद सिंह संग्राहालय से मिलती है सिख इतिहास की जानकारी

यमुनानगर : कपालमोचन में बने गुरु गोविंद सिंह संग्राहालय से सिख इतिहास की जानकारी मिलती है। इसका निर्माण वर्ष 2000 में किया गया था। यहां गुरु गोविंद सिंह  के अस्त्र शस्त्र रखे गए हैं। इनको देखने के लिए काफी संख्या में लोग आते हैं। विद्यार्थी भी शैक्षणिक भ्रमण के लिए आते हैं। इसके साथ ही सोमवार को छोड़ कर बाकि सभी दिनों में यह पर्यटकों के लिए खुला है। गांव की पहचान इससे होती है।

सरकार के द्वारा करीब तीन करोड़ रुपये की राशि से निर्माण किया गया था। गुरु गोविंद सिंह  की याद में बनाए गए इस संग्राहलय में उनके अस्त्र शस्त्र रखे गए हैं। इनको देखने वालों की भी भीड़ रहती है।

म्यूजियम का निर्माण आर्किटेक्ट के लहजे से एक अद्भुत नमूना है। इसके मुख्य प्रवेश द्वार पर घोड़े पर सवार गोविंद सिंह  सैनिक आने जाने वाले प्रत्येक पर्यटक को आकर्षित करता है। बाहर से इसकी सुंदरता को देखकर चकित हो जाते हैं। एक बार देखने वाले की नजर इससे जल्दी से हटती नहीं है। संग्राहलय को माह के सोमवार को दिन को छोड़ कर रोजाना पर्यटकों के लिए खुला रहता है। इसके समीप बने विश्राम गृह में बाहर से आए पर्यटक रात्रि ठहराव कर सकते है। संग्रहालय में गुरु गोविंद सिंह  के जीवन से संबधित अस्त्र शस्त्र रखे गए हैं, जो कि गुरुगोविंद सिंह  जी के हथियारों के जैसे लगते हैं।

 उनके गांव की दूर तक ख्याति इसके कारण है। इसके साथ ही हरियाणा, पंजाब, हिमाचल प्रदेश के श्रद्धालु आते हैं। । इसके लिए पास के गांव में दस एकड़ जमीन अधिग्रहीत की गई थी। इसको बनाने के लिए लगभग तीन करोड़ रुपये की लागत आई थी