News Description
बिना फॉग लाइटों के ही दौड़ रही अधिकतर रोडवेज बसें

सोनीपत : जिले में सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के कारण जहां प्रशासन शहरों के चौक-चौराहों के नए डिजाइन करने का प्लान बना रहा है, वहीं रोडवेज की अधिकतर बसें सड़क सुरक्षा नियमों की धज्जियां उड़ा रही हैं। रोडवेज की अधिकतर बसें बिना फॉग लाइटों के ही रूटों पर दौड़ रही हैं। ऐसे में इन दिनों में घने कोहरे के कारण जहां रूट पर चलने पर विलंब होता है, वहीं ²श्यता कम होने के कारण हादसा होने का भी डर बना रहता है। रोडवेज अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही सभी बसों में फॉग लाइटें लगा दी जाएंगी।

सोनीपत डिपो के साथ अन्य सब डिपो से 234 बसें अलग-अलग मार्गों के लिए रवाना होती हैं। इनमें जिले से हर रोज करीब 40 हजार यात्री अलग-अलग जगहों के लिए यात्रा करते हैं। यह बसें अपने निर्धारित रूटों पर दिन-रात चलती हैं। सर्दी के मौसम में हर जगह घना कोहरा छा जाता है। ऐसे में जहां सड़कों पर वाहनों की रफ्तार कम होती है, वहीं रेल यातायात के साथ हवाई यात्राओं में भी विलंब होता है। इस दौरान कई हादसे भी होते हैं। पिछले वर्ष भी कोहरे के कारण दुघर्टना के कई मामले सामने आए थे। इन हादसों को रोकने के लिए वाहनों में फॉग लाइट होना जरूरी है।इससे चालक को भी आसानी होगी और हादसे का खतरा कम होता है। इसके बावजूद रोडवेज की अधिकतर बसों में फॉग लाइट नहीं लगाई गई हैं। ऐसे में दुघर्टना होने का भय बना रहता है।

विभाग की ओर से हाल ही में 100 गाड़ियों में ट्यूब लगवाई गई हैं, जो फॉग लाइट की तरह काम करती है। साथ ही 132 गाड़ियों में रिफ्लेक्टर लगवाए गए हैं। अन्य में पहले ही और बाकी में लगाने का कार्य चल रहा है। जल्द ही सभी बसों में यह ट्यूब व रिफ्लेक्टर लगा दिए जाएंगे। विभाग इस पर निरंतर कार्य कर रहा है