News Description
किसानों का अब दिन-रात चलेगा धरना

भूमि के मुआवजे को लेकर सेक्टर-12 के पास धरना दे रहे बालौर के किसानो को मनाने के लिए बुधवार को तहसीलदार व हुडा के ईओ भी पहुचे, मगर किसान अपनी माग पर अड़े रहे। उन्होंने अब दिन-रात धरना शुरू कर दिया है। किसानों का साफ कहना है कि जब तक मुआवजा नहीं मिलता तब तक वे धरना खत्म नही करेगे।

दरअसल, इस गाव की अधिगृहीत भूमि का कोर्ट की ओर से मुआवजा बढ़ाया जा चुका है। बताते है कि पूरी जमीन का जो बढ़ा हुआ मुआवजा सरकार की तरफ से किसानो दिया जाना है वह कुल मिलाकर 150 करोड़ से भी ज्यादा है। इस बीच किसानो ने अधिगृहीत भूमि पर जो सरसों की फसल बो रखी थी, वह आटो मार्केट के निर्माण के लिए उजाड़ दी गई। इससे किसानों में आक्रोश पनप गया। उनका तर्क है कि एक तो सरकार ने बकाया मुआवजा नहीं दिया, ऊपर से फसल भी उजाड़ दी गई। अब वे तब तक धरना खत्म नही करेगे जब तक उनका बकाया मुआवजे का एक-एक पैसा नहीं मिला। इस दौरान अधिगृहीत भूमि पर किसी तरह का काम भी नहीं होने देंगे। उधर, तहसीलदार नरेद्र सिंह व हुडा के संपदा अधिकारी विकास ढाडा बुधवार को धरना स्थल पर पहुचे। उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि वे आटो मार्केट का काम चालू रहने दें। उनका मुआवजा प्रक्रिया चल रही है। मगर किसानों ने अधिकारियों की बात नही मानी और उन्हे बैरग लौटा दिया। किसानों ने कहा कि अब तक तो वे सिर्फ दिन में ही धरना दे रहे थे, लेकिन अब रात में भी धरना चलेगा। धरना स्थल पर ही बुधवार से खाने-पीने की व्यवस्था भी कर ली गई।