News Description
नगर निगम ने शुरू किए दस रैन-बसेरे

गुरुग्राम: नगर निगम द्वारा बेघर व्यक्तियों के लिए रात्रि में सोने की व्यापक व्यवस्था की गई है। इसके तहत नगर निगम सीमा में विभिन्न स्थानों पर 10 रैन-बसेरे संचालित किए जा रहे हैं। इनमें 3 स्थायी रैन-बसेरे और 7 पोर्टा केबिन रैन-बसेरे शामिल हैं। नगर निगम के सिटी प्रोजेक्ट ऑफिसर महेंद्र ¨सह ने बताया कि इन रैन-बसेरों में रजाई-गद्दों की पूरी व्यवस्था है और कोई भी व्यक्ति जिसके पास रात्रि में सोने की व्यवस्था नहीं है, वह इन रैन-बसेरों में जा सकता है। भीमनगर फायर स्टेशन के पीछे स्थायी रैन-बसेरा संचालित किया जा रहा है।

महेंद्र ¨सह ने कहा कि गुरुग्राम में प्रतिदिन काफी संख्या में लोग रोजी-रोटी की तलाश में व अन्य कार्यों के लिए आते हैं। उन्हें रात्रि में रुकना भी पड़ता है। ऐसे में नगर निगम का प्रयास है कि कोई भी व्यक्ति रात्रि के समय कड़कड़ाती ठंड में खुले आसमान के नीचे सोने पर मजबूर ना हो। बेघर लोगों की सुविधा के लिए अलग-अलग जगहों पर 10 रैन-बसेरे बनाए गए हैं। उन्होंने आमजन से भी आग्रह किया कि अगर रात के समय कोई व्यक्ति खुले आसमान के नीचे सोता हुआ मिले तो उसे नजदीकी रैन-बसेरे के बारे में अवगत करवाएं। उन्होंने कहा कि उनकी टीम रात्रि के समय रैन-बसेरों का दौरा कर रही है और अगर कोई व्यक्ति खुले आसमान के नीचे सोया हुआ मिलता है, तो उसे नजदीकी रैन-बसेरे तक पहुंचाया जाता है।

कहां कहां बने हैं रैन बसेरे

भीमनगर फायर स्टेशन के पीछे

शीतला माता मंदिर

गांव कन्हई में सामुदायिक केंद्र

राजीव चौक

इफको चौक

बसई चौक

रेलवे स्टेशन के पास

वाटिका चौक

जिला रेडक्रास सोसायटी कार्यालय चंदननगर