# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
गमछा किलर ¨रकू ने भी की थी कई हत्याएं

फरीदाबाद : पलवल में पूर्व फौजी नरेश द्वारा एक के बाद एक छह लोगों को रॉड से मौत के घाट उतारने की घटना ने साल 2014 में सामने आए सीरियल किलर ¨रकू की याद ताजा कर दी है। उसने एक के बाद एक पांच हत्याएं की थीं। दोनों मामलों में बस फर्क इतना है कि नरेश की मानसिक स्थिति को देखते हुए उसे साइको किलर कहा जा रहा है, वहीं ¨रकू की मानसिक हालत ठीक थी। उसने लूटपाट के उद्देश्य से तीन महीने में पांच हत्याएं कीं, उसे सीरियल किलर कहा गया।

इसके अलावा पुलिस ने ¨रकू को 24 सितंबर 2014 को सेक्टर-7 निवासी आदित्य की हत्या के मामले में भी आरोपी बनाया था। आदित्य की गला घोंटकर हत्या के बाद शव एनआइटी-4 में भूजल भवन में फेंका गया था। पुलिस ने दिल्ली करावल नगर निवासी दीपक उर्फ दीपू, दीपक उर्फ सन्नी को गिरफ्तार किया था। ¨रकू को 8 जनवरी 2015 को ओल्ड फरीदाबाद रेलवे स्टेशन के पास से गिरफ्तार किया गया था। अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश कंचन माही की अदालत ने 7 जून 2017 को ¨रकू और दीपक उर्फ सन्नी को इस मुकदमे में बरी कर दिया और दीपक उर्फ दीपू को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। बाकी मुकदमों में ट्रायल चल रहा है।

हर वारदात के लिए नया गमछा इस्तेमाल करता था: मूलरूप से गांव भतौली बदायूं निवासी 28 वर्षीय ¨रकू यहां रिक्शा चलाता था। वह नशे की लत पूरी करने के लिए रिक्शे में बैठे लोगों की हत्या कर उनसे रुपये लूट लेता था। सभी वारदातें उसने अपने गमछे से सवारियों की गला घोंटकर की थीं। गमछे को वह सवारियों के गले में ही पड़ा छोड़ देता था। दूसरी वारदात के लिए नया गमछा खरीदता था। उसे गमछा किलर नाम भी दिया गया था। जब तीन महीने के दौरान शहर में एक के बाद एक पांच शव पुलिस को मिले तो पुलिस ने मामले की गहनता से तफ्तीश की। तभी पुलिस को दो लोग मिले जोकि ¨रकू के चंगुल से बच निकले थे। पुलिस ने उनकी सहायता से ¨रकू को गिरफ्तार किया था।

साल 2014 में इन वारदातों को दिया था अंजाम

5 अक्टूबर : नेहरू कॉलोनी निवासी राममूर्ति की हत्या कर शव को एनआइटी-4 में फेंका।

18 अक्टूबर : दिल्ली अशोक नगर निवासी 28 वर्षीय टेक्नीशियन तारिक नसीम की गला घोंटकर हत्या कर शव को बड़खल पुल के नीचे फेंका।

4 नवंबर : अज्ञात युवक की हत्या कर शव सेक्टर-19 के सामने निर्माणाधीन मेट्रो स्टेशन के पास झाड़ियों में फेंका गया।

5 नवंबर : फतेहाबाद निवासी 60 वर्षीय सतीश की गमछे से गला घोंटकर शव एनआइटी-5 में बांके बिहारी मंदिर के पास फेंका।

31 दिसंबर : यूपी हाथरस के विष्णुदास गांव निवासी 28 वर्षीय वीरेंद्र की हत्या कर शव को सेक्टर-29 में पेट्रोल पंप के नजदीक फेंका गया।