# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
धुएं से डॉग स्क्वाड फेल, मशीन भी लड़खडाई

पानीपत : पांच दिन पहले लगी आग का धुआं अब तक भी उठ रहा है। जैसे-जैसे फैक्ट्री को ढहाया जाता है, धुआं ऊपर उठ आता है। बदायुं और शामली के लापता दो मजदूर अब तक भी नहीं मिले हैं। परिवार के लोग कड़ाके की सर्दी बाहर इसी उम्मीद से बैठे हैं कि शायद कोई चमत्कार हो जाए। उधर, तलाश के लिए बुलाई गई डॉग स्कवाड की टीम भी धुएं की वजह से कुछ नहीं कर सकी। जो मशीन लगाई गई थी, वो भी काम नहीं आई।

शिवनगर स्थित भगवती एक्सपोर्ट फैक्ट्री की इमारत को ढहाने के आदेश दे दिए गए हैं। जली हुई इमारत को ढहाने में मशीनें नाकामयाब दिखाई दी। लापता श्रमिकों के परिजनों की बेचैनी पांचवें दिन और बढ़ गई। डॉग स्क्वाड की मदद ली गई। एसडीएम विवेक चौधरी, नगर निगम आयुक्त शिवप्रसाद शर्मा व एडीसी राजीव मेहता बुधवार सुबह लगभग 10 बजे फैक्ट्री में पहुंचे। उनके पहुंचने से पहले ही इमारत को ढहाने का कार्य प्रशासनिक अमले की देखरेख में चल रहा था। दोपहर में इमारत की दाई तरफ के हिस्से को लगभग पूरी तरह से गिरा दिया गया लेकिन बाई तरफ के हिस्से को गिराने में पीला पंजा भी नाकाम साबित हुआ। दिन में कई बार फैक्ट्री में आग फिर से भड़की। मौके पर मौजूद दमकल विभाग के कर्मचारियों ने काबू कर लिया। लापता श्रमिकों के परिजन बुधवार सुबह होते ही शुरू हुई कार्रवाई से संतुष्ट नजर आए। अधिकारियों का दावा है कि जल्द ही इमारत को ढहा कर लापता श्रमिकों की मलबे में तलाश की जाएगी।

फैक्ट्री मालिक हुआ बीमार, भिजवा दी क्रेन :फैक्ट्री मालिक महावीर गर्ग के परिजनों ने बताया कि आगजनी की सूचना मिलने के बाद से ही उनकी तबीयत खराब है। दिल्ली स्थित एक अस्पताल में इलाज चल रहा है। वहीं क्रेन ऑपरेटरों ने बताया कि उन्हें मालिक ने ही यहां बुलाया है।

फंसी तमाम पूंजी, काश निकाल पाता : बुधवार को इमारत ढहाने का काम चल रहा था। इसी दौरान एक श्रमिक अशोक ने वहां खड़े लोगों को अपनी कमाई क्वार्टर में बने एक कमरे में रखे होने की बात कही। उसने अधिकारियों से सामान निकालने का आग्रह भी किया। अधिकारियों ने उसे खतरा बताते हुए आगे जाने से रोक दिया।