News Description
8000 महिलाओं ने जन्मा पहला शिशु, सभी को मिलेंगे पांच-पांच हजार

पानीपत : प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना (पीएमएमवीवाई) के तहत जिले की लगभग 8 हजार गर्भवती महिलाओं को तीन किस्तों में 5 हजार रुपये का आर्थिक लाभ मिलेगा। यह आंकडे़ दिसंबर-2017 तक के हैं। पहले बच्चे को जन्म देने वाली महिलाएं पात्र होंगी। जिला महिला एवं बाल विकास विभाग ने पात्रों का डाटा जुटा लिया है। आंगनवाड़ी केंद्रों में रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू हो गई है।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने गर्भवती महिलाओं को 5 हजार रुपये आर्थिक सहायता देने के लिए प्रधानमंत्री मातृत्व वंदना योजना शुरू की हुई है। 1 जनवरी, 2017 के बाद प्रथम शिशु को जन्म देने वाली महिलाओं को इस योजना का लाभ मिलेगा। यह रकम तीन किस्तों में प्रदान की जाएगी। योजना की पात्र वहीं महिलाएं होंगी, जिन्होंने गर्भ के 150 दिनों के अंतराल में मदर एंड चाइल्ड केयर कार्ड बनवा लिया है। जिला पानीपत की बात करें तो 8 हजार से अधिक महिलाएं चिन्हित की गई हैं। आंगनवाड़ी केंद्रों में महिलाओं का रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया गया है।

अंतिम किस्त का भुगतान संस्थागत प्रसव कराने, शिशु को स्तनपान कराने और शिशु का टीकाकरण कराने पर ही किया जाएगा। तीनों किस्तों के लिए समय-समय पर नया फॉर्म भरना होगा। यह रकम सीधे महिलाओं के बैंक खाते में पहुंचेगी

पहली किस्त 1000 रुपये मदर एंड चाइल्ड केयर कार्ड बनवाने पर मिलेंगे। दूसरी किस्त 2000 रुपये गर्भ धारण करने के छह माह बाद बाद। तीसरी किस्त 2000 रुपये संस्थागत प्रसव, स्तनपान, शिशु का जन्म पंजीकरण कराने, टीकाकरण विवरण के बाद ही मिलेंगे।

सरकार ने यह योजना गर्भवती महिलाओं और जच्चा को कुपोषण से उबारने के लिए शुरू की है। इससे होम डिलीवरी व मातृ-शिशु मृत्यु दर भी कम होगी। जिला पानीपत की बात करें तो फिलहाल संस्थागत डिलीवरी 94 प्रतिशत हैं। मातृ मृत्यु दर 72 प्रति लाख और शिशु मृत्यु दर 11 प्रति हजार है।