News Description
जो बोले सो निहाल, सत श्री अकाल.

कस्बे के कलगीधर गुरुद्वारे में दसवें गुरू गो¨बद ¨सह महाराज का प्रकाशोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया। इस दौरान गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से नगर कीर्तन भी निकाला गया। महिलाओं ने गुरु की पालकी के आगे झाडू लगाकर व जल का छिड़काव करते हुए सेवा की।

नगर कीर्तन में पंजाबी बैंड ने भी रौनक लगाई। वहीं बाहर से आए रागी जित्थों व कथा वाचकों ने गुरु की महिमा का बखान किया। उन्होंने कहा कि साहिबजादों ने देश व धर्म की खातिर अपनी जान को कुर्बान किया। नगर कीर्तन में साथ चल रही महिला कीर्तनी जत्थे ने भी शब्द गायन किया। नगर कीर्तन गुरुद्वारे से शुरू होकर मेन बाजार व अनाज मंडी से होता हुआ वापिस गुरुद्वारे पहुंचा। जगह-जगह पुष्प वर्षा करके पालकी का स्वागत किया गया। श्रद्धालुओं ने पालकी में माथा टेककर गुरु का आशीर्वाद प्राप्त किया। नगर कीर्तन में छोटे-छोटे बच्चों की टीम ने भी अपने करतब दिखाए। बच्चों द्वारा तलवार चलाना, भाला चलाना, गोला चलाना, लठ चलाना व आंखों पर पट्टी बांधकर बाइक चलाते हुए ट्यूबों के बीच से निकलना आदि करतब देखकर लोग दंग रह गए। इस अवसर पर गुरुद्वारा कमेटी के प्रधान मलकीत ¨सह, हरभजन ¨सह, हरबंस ¨सह, देवेंद्र ¨सह, साहब ¨सह, जितेंद्र डोडा, जीवन अनेजा, राजेंद्र ¨सह, बल¨जद्र मुलतानी, ज्ञान ¨सह, अवतार ¨सह, जगतार ¨सह, पंकज ढीगंडा, पारस मुंजाल, पर¨मद्र ¨सह, बल¨वद्र ¨सह, अवतार ¨सह, दर्शन ¨सह अनेजा व तरूण पाल मौजूद रहे।