News Description
शिक्षामंत्री की पहल से अतिथि अध्यापकों का फिर बढ़ा हौसला : कलकल

महेंद्रगढ़: हरियाणा अतिथि अध्यापक संघ ने प्रदेश सरकार से अन्य विभागों की तरह नए साल में अतिथि अध्यापकों का भला करने की अपील की है, ताकि छुट्टियों के बाद पूरे जोश से रोजगार की ¨चता को छोड़ बच्चों को पढ़ाने में जुट जाएं। क्रमिक अनशन के 63वें दिन मंगलवार को भिवानी जिले के लोहारू खंड के अतिथि अध्यापक 24 घंटे के अनशन पर बैठे।

चरखी दादरी जिला प्रधान जितेंद्र कलकल ने कहा कि शिक्षामंत्री की पहल से अतिथि अध्यापकों का एक बार फिर हौसला बढ़ा है। सरकार ने सकारात्मक पहल की तो सर्दकालीन छुट्टियों के बाद अतिथि अध्यापक रोजगार की सुरक्षा के साथ विद्यालयों में पहुंचेंगे। 12 वर्ष से अतिथि अध्यापक लगातार शोषण का शिकार हो रहे हैं, लेकिन किसी ने भी अतिथि अध्यापकों की सुध नहीं ली। अतिथि अध्यापक रोजगार की ¨चता में मानसिक पीड़ा झेल रहे हैं। सरकार चाहे तो गेस्ट टीचरों की समस्या का स्थाई समाधान करके 15 हजार परिवारों का भला कर सकती है।

प्रदेश सचिव शैलेंद्र व सुरेंद्र कडवासरा ने कहा कि बीजेपी सरकार अपने घोषणा पत्र व वायदे के अनुसार कार्य करें तो वो दिन दूर नहीं की गेस्ट टीचरों के शोषण से बचाया जा सकता है। इसके बाद सरकारी स्कूलों में शिक्षा के स्तर में बढ़ोतरी होगी। महेंद्रगढ़ प्रधान सुरेश कुमार व संगठन सचिव शमशेर ¨सह ने कहा कि गेस्ट टीचर योग्यता के आधार पर ही सभी शर्तों को पूरा करके विद्यालयों में लगे थे। कुछ अधिकारियों ने सरकारों को गुमराह करके न्यायालयों में सही पक्ष नहीं रखने दिया। इसका खामियाजा आज गेस्ट टीचर भुगत रहे हैं। सरकार इन सभी पहलुओं का समाधान कर सकती है।

प्रदेश कोशाध्यक्ष अशोक शर्मा, अनशनकारी कंवरपाल चौहान व सुरेंद्र पुनिया ने कहा कि बीजेपी सरकार लगातार करनी व कथनी में कोई भी फर्क नहीं होने की बात कह रही है। गेस्ट टीचरों को नियमित करने का वायदा बीजेपी ने किया था।