# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
गुरु पूर्णिमा पर लगाया भंडारा, डॉ. तंवर ने टेका माथा

 रोहतक : तेज कॉलोनी स्थित रविदास मंदिर में संत शिरोमणि गुरु रविदास महासभा की ओर से गुरु पूर्णिमा के उपलक्ष्य में सत्संग व भंडारे का आयोजन किया गया। इससे पूर्व मंदिर में गुरु पूर्णिमा की पूर्व संध्या पर हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर ने भी माथा टेककर आशीर्वाद लिया। सभा के प्रधान एवं हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेश सचिव सुरेंद्र ¨सधु ने बताया गुरु पूर्णिमा पर मंदिर में सत्संग व भंडारा लगाया जाता है।

उन्होंने बताया कि शिष्य के जीवन में गुरु पूर्णिमा के दिन का बड़ा महत्व है। इस दिन साधक गण अपने-अपने सद्गुरु देव का पूजन करते हैं। सुरेंद्र ¨सधु ने कहा कि गुरु को शास्त्रों में भगवान का दर्जा दिया है। भगवान को भी शिक्षा देने वाले गुरु के लिए किसी संत ने कहा है कि गुरु गो¨वद दोउ खड़े, काके लागूं पाय, बलिहारी गुरु आपनो, गो¨वद दियो बताय। अर्थात एक शिष्य अपने गुरु और भगवान को सामने पाकर असमंजस में है कि पहले किसके पांव छूए, जिस पर गो¨वद अर्थात भगवान कहते हैं कि गुरु भगवान से भी बढ़कर है पहले उसके पांव पड़ो। इसलिए गुरु पूर्णिमा के दिन सभी को संकल्प लेना चाहिए कि हम गुरु का सदैव सम्मान करेंगे। गुरु सदैव पूज्य हैं। उनकी अवज्ञा घोर पाप की श्रेणी में आती है। वहीं, इस अवसर पर पूर्व प्रधान ताराचंद बागड़ी, देवेंद्र चहल, जगत कालसन, दयानंद माडिया, डॉ. राज¨सह, अतर ¨सह चहल, कुलदीप राठी, सुरजभान, बसंती देवी, दिलबाग ¨सह, शेर¨सह हालू, मनीष मेहरा, सतीश नाहर, ललित कुमार, मास्टर देवेंद्र, मास्टर राजेंद्र, कृष्ण राठी सहित सभा के सदस्य मौजूद रहे।