# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
PGI में पास नया बैच,81 फीसद रहा परिणाम, टॉप थ्री में सिर्फ लड़कियां

रोहतक : पंडित भगवत दयाल शर्मा स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय में नए इंटर्नस के स्वागत के लिए मंगलवार को शपथ ग्रहण समारोह हुआ। इसका शुभारंभ डीन डा. एमसी गुप्ता ने किया। पास हुए इस बैच का परिणाम 81 फीसद रहा।

इसमें टॉप थ्री में सिर्फ लड़कियां ही रहीं हैं। करिश्मा ने पहला स्थान प्राप्त किया। वहीं, दूसरे स्थान पर अंजली व तीसरे स्थान पर सुयाशा ने कब्जा जमाया। डीन डॉ. एमसी गुप्ता ने सभी छात्रों को हिपोक्रेटिक ओथ दिलवाकर नववर्ष के साथ उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं।इस शपथ ग्रहण समारोह में 212 छात्रों ने हिस्सा लिया। इस बैच का रिजल्ट 81 प्रतिशत रहा है।

इस अवसर पर उपस्थित छात्रों को संबोधित करते हुए डीन डॉ. एमसी गुप्ता ने कहा कि हिपोक्रैटिक ओथ लेकर उसे भूलना नहीं चाहिए। सदैव उसे अपने मन मे रखकर मरीज का इलाज करना चाहिए। उन्होंने कहा कि हर शुभकार्य की शुरूआत अग्नि को साक्षी मानकर की जाती है और आज छात्र अपने जीवन का एक नया सफर शुरू कर रहे हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को हमेशा ही अपने शिष्टाचार के साथ मरीजों का इलाज करने की बात कही। साथ ही, बताया कि मरीज का आप्रेशन या अन्य जांच करने से पहले उसके परिजनों की सहमति अवश्य ले लेनी चाहिए। उन्होंने बताया कि मरीज की कम से कम और सिर्फ जरूरतमंद जांचें ही लिखनी चाहिए।

इससे मरीज पर अतिरिक्त भार नहीं आएगा। उन्होंने कहा कि हमें अपना कार्य हमेशा पूरी मेहनत और लगन के साथ करना चाहिए। विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए उन्होंने बताया कि डाक्टरी ऐसा पेशा है, जिसमें डॉक्टर को चाहिए कि इलाज प्रक्रिया के दौरान मानवता का पुट अपनी कार्यशैली में लाएं ताकि मरीज उनकी सेवाओं को ताउम्र याद रखें।डीन छात्र कल्याण डॉ. ध्रुव चौधरी ने कहा कि मरीज का इलाज करते हुए उसमें स्वयं या अपने परिजन को महसूस करेंगे तो गलती होने की संभावना खत्म हो जाएगी। उन्होंने कहा कि हमें मरीजों एवं उनके परिजनों से अच्छा व्यवहार करना चाहिए और उनमें अपने प्रति विश्वास पैदा करना चाहिए।