# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
धुंध ने रोकी रफ्तार, रात को दृश्यता रही कम

फतेहाबाद : दिसंबर माह में धुंध न गिरने से किसान परेशान थे। लेकिन नया साल लगते ही धुंध का कहर भी शुरू हो गया है। यह धुंध किसानों के लिए तो वारदात साबित हो रही है वही आमजनों के लिए परेशानी भी बन रही है। सड़कों पर वाहन रेंगते हुए चल रहे थे। गनीमत यह रही कि कहीं कोई बड़ी घटना नहीं हुई। जनवरी माह में मंगलवार वह दिन रहा जब पूरे दिन सूर्य नहीं निकले। सूरज न निकलने के कारण ठंड भी अधिक रही। पहली बार अधिकतम तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से नीचे आया। मंगलवार को अधिकतम तापमान 18 डिग्री व न्यूनतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया।

दिसंबर माह में अच्छी धूप थी। इस कारण किसान परेशान थे। अक्सर दिसंबर माह में धुंध गिरती थी। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। किसानों को उम्मीद बढ़ी कि जनवरी माह में धुंध गिरनी शुरू हो जाएगी। जनवरी लगते ही अच्छी धुंध भी शुरू हो गई। मंगलवार को धुंध होने के कारण सड़कों पर वाहन रेंगते हुए नजर आए। वहीं मौसम विभाग की माने तो अगले कुछ दिनों तक ऐसा ही मौसम रह सकता है। मंगलवार को अधिकतम तापमान 18 डिग्री व न्यूनतम तापमान 6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

--धुंध से पहले प्रशासन नहीं हुआ सचेत

शहर के बीचों बीच नेशनल हाइवे गुजरता है। इसकी देखभाल भी नेशनल हाइवे कर रहा है। हाइवे और स्थानीय पीडब्ल्यूडी विभाग एक दूसरे पर काम करने की बात कह रहे है। लेकिन चाहे जो भी हो घायल व सड़क हादसे का शिकार तो लोग हो रहे है। गांव धांगड़ के बाइपास तक तो फोरलेन का निर्माण हो गया। इस स्थान से लेकर सिरसा बाइपास तक सड़क टूटी पड़ी है। इस सड़क से सफेद पट्टी भी गायब हो गई है जो हादसे का कारण बन सकती है।

--सड़क पर लटक रही टहनियां

बरसात के मौमस के बाद शायद ही वन विभाग ने सड़कों के किनारे टहनियां काटने का अभियान चलाया हो। हर ¨लक रोड से लेकर हाइवे पर भी वृक्षों की टहनियां लटक रही है। लेकिन वन विभाग के अधिकारियों ने एक बार भी इन स्थानों का निरीक्षण नहीं किया । फतेहाबाद से भट्टूकलां जाने वाले रास्ते पर टहनियां इस तरह सड़कों पर है कि धुंध में कुछ भी नहीं दिखाई देता और हादसा होने का डर भी है।