News Description
डोप टेस्ट से भागे शॉटपुट खिलाड़ियों पर साई अधिकारियों ने बैठाई जांच

रोहतक : राजीव गांधी खेल स्टेडियम में हुए नेशनल स्कूल गेम्स में रजत पदक विजेता शॉटपुटर के खिलाफ एसजीएफआइ ने कार्रवाई करते हुए मेडल और सर्टिफिकेट रद कर दिया है। वहीं नाडा और एसजीएफआइ की मांग के अनुसार साई अधिकारियों की टीम ने शॉटपुट के खिलाड़ियो के खिलाफ जांच बिठा दी है। खिलाड़ी जांच में दोषी पाए जाने पर भविष्य में खेलने पर प्रतिबंध भी लगाया जा सकता है।

बता दें कि राजीव गांधी खेल स्टेडियम में 18 से 22 दिसंबर तक नेशनल स्कूल गेम्स का आयोजन किया गया था। जिसमें सभी स्पर्धाओं के विजेता खिलाड़ियों का नाडा यानि नेशनल एंटी डो¨पग एजेंसी सैंपल लेकर डोप टेस्ट कर रही थी। उस समय सभी विजेता खिलाड़ियों ने नाडा को यूरीन सैंपल दिया था। हरियाणा टीम से शॉटपुट स्पर्धा में रजत पदक विजेता खिलाड़ी मोहित ने अपना यूरीन सैंपल नहीं दिया और स्टेडियम से फरार हो गया था। मेडल सेरेमनी के दौरान बार-बार नाडा और अन्य अधिकारियों की ओर से मोहित को मेडल सेरेमनी में बुलाया जा रहा था। इस कारण विभागीय अधिकारियों में हड़कंप मच गया था। बताया जाता है कि इसके अलावा खिलाड़ी पर शक जाहिर किया गया था कि उसके पास स्कूल का भी प्रमाण पत्र नहीं था और वह फर्जी तरीके से प्रमाण पत्र बनवाकर नेशनल स्कूल गेम्स में खेला था। वहीं खिलाड़ी को भिवानी साई सेंटर का बताया जा रहा था। बाद में एसजीएफआइ यानि स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया की और शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने खिलाड़ी के खिलाफ कड़ा कदम उठाने की बात कही थी।

एसजीएफआइ के अधिकारियों के मुताबिक शॉटपुट खिलाड़ियों के खिलाफ कड़ा कदम उठाते हुए उसका मेडल और प्रमाण पत्र रद कर दिया गया है। इस बारे में शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर भी अवगत करा दिया गया है। वहीं शिक्षा विभाग से भी खिलाड़ी के खिलाफ उचित कदम उठाने को कहा गया है। अधिकारियों ने बताया कि प्रतियोगिता में सभी खिलाड़ियों ने विभिन्न स्पर्धाओं में अच्छा प्रदर्शन किया और मेडल जीतने के बाद उन्होंने नाडा को अपना यूरीन सैंपल भी दिया।

लेकिन शॉटपुटर मोहित ने अभी तक इस मामले में अधिकारियों से कोई संपर्क नहीं किया। जिस कारण वह पहले ही शक के दायरे में आ गया था। इस कारण उसके खिलाफ यह कदम उठाया गया है।