News Description
तालमेल कमेटी के कर्मचारियों को मिला कर्मचारी संगठनों का समर्थन

महेंद्रगढ़ : हरियाणा शिक्षा विभाग तालमेल कमेटी संबंधित सर्व कर्मचारी संघ का धरना सोमवार को 16वें दिन भी जारी रहा। करनाल जिले से पहुंचे जयपाल ¨सह, चंद्रभान, बल¨वद्र को फूलमालाएं पहनाकर धरने पर बैठाया गया। सोमवार को हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ, हरियाणा रोडवेज वर्कर्स यूनियन, मंडी बोर्ड व नपा कर्मचारी संघ ने समर्थन दिया।

कर्मचारी नेता मास्टर धर्मेन्द्र यादव, सुजान यादव मालड़ा, मुकेश जांगड़ा, ऋषिराज यादव ने संयुक्त रूप से कहा कि शिक्षा विभाग का कर्मचारी प्रजातांत्रिक तरीके से लगातार तीन वर्षों से आंदोलन कर रहा है। भाजपा सरकार के पूर्व अध्यक्ष व वर्तमान शिक्षामंत्री द्वारा जारी चुनावी घोषणा पत्र को लागू कराने के लिए पड़ाव डाला हुआ है। मांगों को लागू करना तो दूर शिक्षामंत्री उनकी बात तक सुनने को तैयार नहीं। कर्मचारी बड़ा आंदोलन करते हैं तब बातचीत के लिए समय दिया जाता है लेकिन चंडीगढ़ में बुलाकर बात नहीं करते।

उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग में भाई-भतीजावाद, भ्रष्टाचार, जोरों पर है। विभाग आउटसोर्सिंग, ठेका प्रथा, निजीकरण की नीतियों को खुलेआम बढ़ावा देकर बड़े पूंजीपतियों को फायदा पहुंचने का कार्य कर रहा है। शिक्षामंत्री बाबाओं पर मेहरबान होकर 51-51 लाख रुपये सरकारी खजाने से लुटा रहे हैं। जबकि शिक्षा विभाग में कार्यरत पार्ट टाइम स्वीपरों को 12 माह से वेतन ही नहीं दिया जा रहा है। सरकारी स्कूलों को बंद करके कच्चे कर्मचारियों की छटनी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि शिक्षा जैसे महत्वपूर्ण विभाग में एक लाख से भी अधिक पद रिक्त हैं। लाखों बेरोजगार रोजगार के लिए दर-दर की ठोकर खा रहे हैं। सरकार के पास रोजगार देने की कोई योजना ही नहीं है। उन्होंने कहा कि यदि समय रहते शिक्षामंत्री ने बातचीत के माध्यम से मांगों का समाधान नहीं किया तो कर्मचारी मंत्री के हल्के में गांव-गांव जाकर पोल खोलेंगे।