News Description
युवक को कुल्हाड़ी से काट मौत के घाट उतारा

श्चिमी यमुना नहर में नहाकर बाइक से दोस्तों के साथ लौट रहे जगाधरी के लोहरान मोहल्ला निवासी 19 वर्षीय मंदीप की कार सवार युवकों ने कुल्हाड़ी से काट कर हत्या कर दी। उसके दोस्त ने बचाने की कोशिश की तो हमलावरों ने उस पर पिस्टल तान दी। सूचना मिलने पर थाना बूड़िया एसएचओ सुभाष चंद मौके पर पहुंचे और युवकों के बयान दर्ज किए। मंदीप के दोस्तों ने बताया कि हमलावरों ने कार से बाइक में टक्कर मारी और मंदीप के नीचे गिरते ही उस पर हमला कर दिया।

चारों ने बनाई थी नहाने की योजना

जगाधरी के गांधी धाम निवासी विशाल गौरी ने पुलिस को बताया कि वह और जगाधरी के लोहरान मोहल्ला निवासी 19 वर्षीय मंदीप, जोहड़ीपुरा मोहल्ला निवासी अंकित उर्फ लालू व गांधी धाम का साहिल चारों दोस्त हैं। चारों रविवार को जगाधरी में एक साथ थे। तभी साहिल ने उनसे कहा कि नहाने के लिए फतेहगढ़ पुल के पास पश्चिमी यमुना नहर में चलते हैं, लेकिन उन्होंने मना कर दिया था। बाद में मंदीप नहर पर जाने को तैयार हो गया तो उन्होंने उसे अकेले नहीं जाने दिया।

बाइक पर पीछे से कार से मारी टक्कर

जब वह नहर में नहा रहे थे तो साहिल के पास घर से फोन आ गया। इसलिए वह उनसे पहले ही घर चला गया था। नहाने के बाद मंदीप अपनी बाइक पर तथा अंकित और विशाल दोनों अलग मोटरसाइकिल पर घर लौट रहे थे। शहजादपुर गांव के पास पीछे से आ रही एक आल्टो कार ने दोनों बाइकों में टक्कर मार दी। टक्कर लगने से वह तीनों नीचे गिर गए। इसी दौरान डंडे व कुल्हाड़ी लेकर कार से 6 युवक नीचे उतरे। उन्हें देखकर अंकित भागकर झाड़ियों में छिप गया। हमलावरों ने मंदीप पर हमला कर दिया। साहिल ने जब उसे छुड़ाने की कोशिश की तो एक हमलावर ने उसकी कनपटी पर पिस्टल तानकर धमकी दी कि वह बीच में आया तो उसे भी जान से मार देंगे। इसके बाद हमलावरों ने मंदीप के सिर व टांग पर कुल्हाड़ी से वार कर दिया।

भागने से पहले तोड़ दी कार की नंबर प्लेट

मंदीप पर हमला करने के बाद आरोपी फरार हो गए। भागने से पहले आरोपियों ने अपनी कार की दोनों नंबर प्लेट तोड़ दी ताकि किसी को उनके बारे में पता न चले। हमलावरों ने साहिल की उस बाइक को भी तोड़ दिया जिस पर वे सवार थे ताकि कोई पीछा न कर सके।

किसी ने नहीं उठाया 102 नंबर पर फोन

साहिल ने बताया कि उसने एंबुलेंस के लिए 102 नंबर पर करीब 15 बार कॉल की लेकिन किसी ने फोन नहीं उठाया। इससे पहले पुलिस की मदद लेने के लिए 100 नंबर पर भी फोन किया। चार-पांच बार कॉल करने के बाद ही कंट्रोल रूम में फोन रिसीव हुआ। उसने आसपास के लोगों की मदद से मंदीप को अस्पताल पहुंचाया। यहां पहुंचते ही उसने दम तोड़ दिया।

तीन दिन पहले हुआ था झगड़ा

अंकित ने बताया कि मंदीप व उसके साथियों का तीन दिन पहले बूड़िया रोड पर हमलावरों के साथ किसी बात को लेकर झगड़ा हुआ था। हमले में दोनों पक्षों को काफी चोटें आई थी। तभी से दोनों पक्षों में रंजिश चल रही थी। अंकित ने बताया कि हमलावर तिगरा व आसपास के गांवों के बताए जा रहे हैं।