News Description
भारतीय संविधान पर टिप्पणी को लेकर अंबेडकर संगठनों में रोष

डॉ. अंबेडकर पुस्तकालय कलायत में केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े के खिलाफ डीएएसएफआइ ने ¨नदा प्रस्ताव पारित किया। बैठक की अध्यक्षता संगठन प्रदेश उपाध्यक्ष गुरूदेव अंबेडकर ने की। आपात बैठक में कलायत क्षेत्र के विभिन्न गांवों से जुड़े सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने प्रतिभागी दर्ज की। सामाजिक संगठन हेगड़े द्वारा भारतीय संविधान पर की गई टिप्पणी से बेहद खफा नजर आए। डॉ. भीमराव अंबेडकर पुस्तकालय प्रभारी राजीव ब्रह्माणियां और गुरूदेव अंबेदकर ने कहा कि संविधान पालना के प्रति मंत्रियों का विशेष दायित्व है। सीमाओं को लांघकर जिस प्रकार उक्त मंत्री ने संविधान पर टिप्पणी की है वह सीधे तौर से देश द्रोह है। इसके मद्देनजर इनके खिलाफ तत्काल प्रभाव से मामला दर्ज करते हुए ठोस कार्रवाई अमल में लाई जाए। नैतिकता के आधार पर यदि मंत्री खुद पद से इस्तीफा नहीं देते तो सरकार इन्हें पद से हटाने का काम करे। प्रतिनिधियों का दायित्व संविधान के प्रति जागरूकता लाना है, लेकिन जिस प्रकार अनंत कुमार ने संविधान पर टिप्पणी की वह गैर जिम्मेदाराना रवैया है। इन्हें यह स्मरण रहना चाहिए कि संविधान प्रत्येक व्यक्ति को स्वतंत्रता से जीने का अधिकार प्रदान करता है। अधिकारों और कर्तव्यों का संविधान में बारीकी से उल्लेख किया गया है। इस अवसर पर डॉ.अंबेडकर युवा समिति ¨पजुपूरा अध्यक्ष हरपाल ¨सह, गुरमीत बढ़सीकरी, गुरमीत रसीला, संदीप धानियां, सोनू सौंगल, अजय ब्रह्मणियां, गुलशन कैथल, आत्माराम मटौर, पवन कमालपूर, अमरजीत बढ़सीकरी, जोरावर ¨सह, जोरा तारागढ़, गुलाब ¨सह, रोहित दहिया, अमन कुमार व कुलदीप ¨सह मौजूद थे।