# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
महाप्रबंधक के पक्ष-विपक्ष में लामबंद कर्मचारी

 रेवाड़ी: हरियाणा रोडवेज ज्वाइंट एक्शन कमेटी-रेवाड़ी डिपो। रोडवेज के जीएम लाजपत राय के विरोध व समर्थन में डटे रोडवेज कर्मचारियों द्वारा यही नाम इस्तेमाल किया जा रहा है। होर्डिंग घोटाले को उछाल रहे कर्मचारी नेता जहां जीएम के तबादले की मांग को लेकर दो कर्मचारियों के साथ भूख हड़ताल व धरने पर डटे हुए हैं वहीं रेवाड़ी डिपो की हालत सुधारने का श्रेय देने वाली यूनियनों के पदाधिकारियों ने सोमवार को एसडीएम को ज्ञापन सौंपकर उन कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है, जो डिपो के संचालन में बाधा डाल रहे हैं। 

जिस तरह से मामला उलझा है, उसे उच्च स्तरीय जांच की जरूरत है। ऐसे में दूध का दूध और पानी का पानी तभी हो सकता है, जब निष्पक्ष जांच हो। रोडवेज महाप्रबंधक लाजपत राय विधानसभा की उपाध्यक्ष संतोष यादव के भाई हैं। ऐसे में उनके ऊपर राजनीतिक ताकत के इस्तेमाल के आरोप लगना स्वभाविक है, लेकिन सिर्फ संतोष यादव के भाई होने के नाम पर बिना सबूत शोर मचाना भी सही नहीं है। धरने पर बैठे कर्मचारियों के इस आरोप में तो दम दिख रहा है कि जीएम ने बस स्टैंड पर खड़े होर्डिंग अपने घरेलू इस्तेमाल के लिए पहले सरकारी ट्रक से भेजे और शोर मचने पर बैक डेट में कागजों का पेट भरने का प्रयास किया, परंतु यह भी सच है कि होर्डिंग रोडवेज की संपत्ति नहीं थे।

फार्म हाउस पर होर्डिंग ले जाने में यह भी बचाव की वजह नहीं बन सकती, क्योंकि अगर आरोप सही है तो सरकारी ट्रक व स्टाफ का तो दुरुपयोग किया ही गया, लेकिन स्क्रैप खुर्दबुर्द करने और डिपो को चौथे स्थान से 21वें स्थान पर पहुंचाने के आरोप बिना सबूत लगाए जा रहे हैं। धरनारत कर्मचारी अगर तथ्यों के साथ अपनी बात करेंगे तो उनकी बात को ताकत मिलेगी।  सबने एक स्वर में कहा कि जीएम के भ्रष्टाचार के सबूत मंगलवार को सौंपे जाएंगे।