News Description
बहादुरगढ़ से लापता सात वर्षीय बच्ची दिल्ली से बरामद

 बहादुरगढ़ :चार दिन पहले रेलवे लाइन पार क्षेत्र से संदेहजनक परिस्थितियों में खेलते-खेलते लापता हुई सात वर्षीय बच्ची मंजू को दिल्ली से सकुशल बरामद कर लिया गया है। वह नई दिल्ली के रेलवे स्टेशन के चाइल्ड होम में मिली। इसके बाद पुलिस के जान में जान आई है। यहा से वह ट्रेन के जरिये दिल्ली पहुंच गई।

बहादुरगढ़ के एएसपी लोकेंद्र सिंह ने बताया कि मूल रूप से गाव गद्दी खेड़ी जिला रोहतक निवासी 7 वर्षीय लड़की मंजू अपने मामा के घर लाइनपार बहादुरगढ़ में आई हुई थी। वह 29 दिसंबर को दिन के 11 बजे खेलते-खेलते संदेहजनक हालात में घर से गुम हो गई थी। इस पर गुमशुदा लड़की के परिजनों द्वारा थाना लाइनपार बहादुरगढ़ में मामला दर्ज करवाया गया था। मामले को गंभीरता से लेते हुए एसएसपी बी सतीश बालन द्वारा बहादुरगढ़ पहुंचकर बीते शनिवार को पुलिस अधिकारियों की बैठक ली गई। उन्होंने गुमशुदा लड़की की तलाश के लिए गंभीरता से हरसंभव कारवाई करने के दिशा-निर्देश दिए थे। बच्ची की तलाश के लिए पुलिस की अनेक टीमों द्वारा गहनता से प्रयास करते हुए सर्च अभियान चलाया गया। अभियान के तहत अनेक संभावित स्थानों पर दबिश देते हुए पुलिस टीमों द्वारा अलग-अलग स्थानों पर छापेमार कार्रवाई की गई।

थाना लाइनपार प्रभारी कुलबीर सिंह, शहर थाना प्रभारी तेलूराम, सदर एसएचओ जसवीर सिंह, ट्रैफिक एसएचओ अशोक कुमार की अलग-अलग पुलिस टीमों तथा बहादुरगढ़ क्षेत्र में तैनात सभी पीसीआर व चिता राइडर्स द्वारा बहादुरगढ़ शहर व आस-पास के आबाद व गैर आबाद इलाका तथा बंद पड़े ईट भट्ठों आदि स्थानों पर गहनता से छानबीन की गई। लेकिन गुमशुदा मंजू के संबंध में कोई सुराग नहीं लग पाया था।

सोमवार को थाना प्रबंधक लाइनपार बहादुरगढ़ उपनिरीक्षक कुलबीर सिंह को सूचना मिली थी कि लाइनपार से गुमशुदा लड़की मंजू नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के चाइल्ड होम में मौजूद है। इसके बाद थाना लाइनपार में तैनात उप निरीक्षक रामकुमार के नेतृत्व में पुलिस की एक टीम नई दिल्ली रेलवे स्टेशन के चाइल्ड होम पहुंची। जहा से मंजू को सकुशल बरामद किया गया। इसके बाद नियमानुसार कार्रवाई करते हुए स्थानीय पुलिस द्वारा मंजू को उसके परिजनों के हवाले किया गया। इससे पहले सीडब्ल्यूसी द्वारा बच्ची की काउसलिंग भी की गई। गुमशुदा की तलाश के लिए झज्जर पुलिस की अनेक टीमों द्वारा कड़े परिश्रम व लगन से सर्च अभियान चलाया गया। इसमें शामिल पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों की उन्होंने भूरी भूरी प्रशसा करते हुए सराहना की।

ट्रेन में बैठकर पहुची दिल्ली

पुलिस को जानकारी मिली है कि घर से निकलने के बाद मंजू रेलवे स्टेशन की तरफ चली गई। उसे ट्रेन में बैठने का शौक है। ऐसे में वह जब स्टेशन पर पहुची तो वहीं से ट्रेन में बैठ गई, लेकिन वापसी में घर का पता नही बता पाई। लाइनपार एसएचओ ने बताया कि एक बार पहले भी मंजू इसी तरह तीन-चार घटो के लिए लापता हो गई थी।