# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
NMC के विरोध में आज से निजी अस्पतालों के डॉक्टरों की हड़ताल

पानीपत : इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए), नेशनल शाखा के पदाधिकारियों की दिल्ली में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) विषय पर हुई बातचीत नाकाम रही। सैंट्रल कमेटी और हरियाणा कमेटी के आह्वान पर आइएमए से जुड़े चिकित्सक मंगलवार को हड़ताल पर रहेंगे। केंद्र सरकार के नाम एक ज्ञापन जिला उपायुक्त को सौंपा जाएगा। प्राइवेट चिकित्सक सुबह 6 से शाम 6 बजे तक ओपीडी बंद रखेंगे।

आइएमए, पानीपत की आपातकालीन बैठक सोमवार की सायं 4 बजे स्काईलार्क में बुलाई गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा द्वारा तीन दिन पहले लोकसभा में पेश किए गए नेशनल मेडिकल कमीशन विधेयक की खामियों पर चर्चा हुई। एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. श्याम कालड़ा ने बताया कि नेशनल मेडिकल कमीशन (एनएमसी) में ब्रिज कोर्स के जरिए आयुर्वेद व यूनानी पद्धति के चिकित्सकों को एलोपैथ विधि से मरीजों का इलाज की अनुमति देने की तैयारी है। एबीबीएस पासआउट कर चुके चिकित्सकों को एग्जिट परीक्षा भी पास करनी होगी। आयोग में नॉन मेडिकल की भागीदार नब्बे प्रतिशत तक होगी। ये सभी एलोपैथ को खत्म करने की साजिश है। सोमवार कसुबह सैंट्रल कमेटी की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा से हुई वार्ता में ठोस आश्वासन नहीं मिला, इसलिए सांकेतिक हड़ताल जरूरी है। एसोसिएशन के सचिव डॉ. सुदेश खुराना व अन्य चिकित्सकों ने सैंट्रल व प्रादेशिक कमेटी के आह्वान का समर्थन करते हुए 12 घंटे ओपीडी बंद रखकर, काला दिवस मनाने का निर्णय लिया। आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी।

चिकित्सकों ने चेतावनी के अंदाज में कहा कि सरकार ने एलोपैथिक चिकित्सकों की नहीं सुनी तो भविष्य में अनिश्चितकालीन हड़ताल का निर्णय भी लिया जाएगा।