# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
जिला उपायुक्त और नगर निगम कमिश्नर के बीच बढ़ी खिंचातानी

पंचकूला : जिला उपायुक्त और नगर निगम कमिश्नर के बीच खींचतान बढ़ती नजर आ रही है। नगर निगम कमिश्नर ने डीसी द्वारा स्वच्छ सर्वेक्षण में होने वाली विभिन्न कैटेगरी की प्रतियोगिताओं के बीच बतौर जज अधिकारी देने से इन्कार करने के बाद दूसरे विभाग से आफिसर ले लिए है। हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण एवं आयकर विभाग को पत्र लिखकर निगम ने अधिकारी लिए है। हुडा द्वारा तो पांच अधिकारियों की लिस्ट भी निगम कमिश्नर को सौंप दी गई।

दरअसल निगम कमिश्नर राजेश जोगपाल ने डिप्टी कमिश्नर गौरी पराशर जोशी पर 4 जनवरी से शुरू होने जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण की तैयारियों में सहयोग नहीं देने का आरोप लगाया था। उन्होंने इसकी शिकायत अंबाला के डिविजनल कमिश्नर विवेक जोशी से की थी। इस शिकायत की कॉपी अर्बन लोकल बॉडीज डिपार्टमेंट के प्रिंसिपल सेक्रेटरी डायरेक्टर को भी भेजी गई। इन अफसरों को लेटर लिखकर व्यक्तिगत रूप से हस्तक्षेप करने को कहा गया था, ताकि पंचकूला स्मार्ट सिटी के चयन के लिए होने जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण में पीछे न रह जाए।

परंतु कोई जवाब न आने पर निगम कमिश्नर ने हुडा एवं आयकर विभाग से अधिकारी मांग लिए। निगम कमिश्नर ने बताया कि स्वच्छता अवॉर्ड के विजेताओं के चयन के लिए पाच कमेटियों का गठन किया था।