News Description
सरकार नहीं मानी तो 18 फरवरी को होगी आंदोलन की घोषणा

, कैथल : अखिल भारतीय जाट आरक्षण संघर्ष समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष यशपाल मलिक ने कहा कि सरकार ने उनकी मुख्य तीन मांगों को अब तक पूरा नहीं किया है। 18 फरवरी को आरक्षण के लिए आंदोलन में जिन 29 लोगों ने अपनी जान दी उनका बलिदान दिवस मनाया जा रहा है। बलिदान दिवस के दिन ही सरकार के विरोध में आंदोलन की घोषणा कर दी जाएगी। इस बार आंदोलन पहले से बड़ा होगा और पूरे देश में एक साथ होगा। यशपाल मलिक आंदोलन की रुपरेखा तय करने के लिए ही जिला कार्यकारिणी की मी¨टग लेने के लिए कैथल पहुंचे थे। मी¨टग से पहले प्रेसवार्ता में उन्होंने कहा कि ऐसी मी¨टग सभी जिलों में की जा रही हैं। साथ ही देश के अन्य राज्यों में भी। सरकार ने जो जातिगत आंकड़े दिए हैं वह भ्रमित करने वाले और पूरी तरह से गलत हैं। यह आंकड़े ही सरकार की पोल खोल रहे हैं। वह खुद आयोग के सामने आपत्ति दर्ज करवा चुके हैं और आयोग अब इसका फिर से सर्वे करवाएगा। सरकार ने ऐसे आंकड़े पेश कर साफ कर दिया है कि वह आरक्षण नहीं देना चाहती है और जानबूझकर लंबा खींच रही है। अब तक छिटपुट मांगों को छोड़ मुख्य तीन मांगे केंद्र और राज्य में आरक्षण, आंदोलन के दौरान मारे गए लोगों के परिवारों को नौकरी और जेलों में बंद युवा रिहा नहीं हो पाए हैं। जेल में बंद युवाओं को रिहा नहीं होने देने के पीछे वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु का हाथ है। वह समाज विरोधी हैं। समिति पहले ही सरकार से इनको बाहर करने की मांग कर चुकी है। समाज को बांटने के लिए इनके आदमी पूरे प्रदेश में सक्रिय हैं जो इनके खर्चे पर दिन रात दुष्प्रचार कर रहे हैं। इस अवसर पर समिति के राष्ट्रीय महासचिव अशोक बलहारा, राज्य उप-प्रदेशाध्यक्ष बलवान कोटड़ा व जिलाध्यक्ष प्रवीन किच्छाना मौजूद थे।

बॉक्स

अहिर और यादव खा रहे बीसी

-बी का आरक्षण, सांसद बेखबर

सांसद राजकुमार सैनी को यह खबर ही नहीं है कि बीसी-बी का आरक्षण अहीर और यादव खा रहे हैं। यह एक ही जाति है। सरकार इनको अलग अलग जाति का दर्जा देकर आरक्षण दे रही है। अन्य जातियों का हक भी ये जातियां उठा रही हैं। सांसद राजकुमार सैनी सिर्फ जाटों के पीछे पड़े हुए हैं और जिनके हकों की वे बात करते हैं उनका हक भी अन्य जातियां खा रही हैं। प्रदेश को दंगों में झोंकने के पीछे इन्हीं का हाथ है। सांसद राजनीति में कोई नए नहीं है। यह एक मंजे हुए राजनीतिक हैं और भाजपा ने इनका इस्तेमाल किया।