News Description
कोहरा छाने से बढ़ी ठिठुरन, वाहनों की रफ्तार पर लगा ब्रेक

जींद : मौसम के बदले मिजाज के बीच साल के अंतिम दिन कोहरे ने दस्तक दी। घने कोहरे के साथ चली सर्द हवा से ठिठुरन बढ़ गई। पूरे दिन सर्द हवा से लोग कांपते रहे। जगह-जगह अलाव के सहारे सर्दी से बचाव करते दिखे। कोहरे की वजह से रेल व सड़क यातायात भी प्रभावित रहा।

पिछले कई दिनों से मौसम साफ होने से सर्दी कम रही। बीते कुछ दिनों से कोहरे का असर नहीं था, लेकिन शनिवार रात को मौसम ने एक बार फिर करवट ली। रात करीब एक बजे के बाद घना कोहरा आ गया। सुबह 12 बजे तक कोहरा छाया रहा। कोहरा के कारण तापमान में दो डिग्री की गिरावट दर्ज की गई। रविवार को जिले में अधिकतम तापमान 21 डिग्री रहा, जबकि न्यूनतम तापमान 6 डिग्री दर्ज किया गया। कोहरा अधिक होने के कारण मार्गों पर वाहन रेंगते हुए नजर आए और पांच मीटर से आगे कुछ भी दिखाई नहीं देने के कारण वाहन 20 की स्पीड से चलते हुए नजर आए। वहीं, सर्द हवा ने लोगों की मुश्किलें और बढ़ा दीं। दिनभर लोग सर्दी से कांपते नजर आए। हालांकि, दोपहर को एक बजे के बाद हल्की धूप निकली, लेकिन लोगों को धूप में सर्दी से राहत नहीं मिली। ठंडी हवा की वजह से धूप बेअसर रही। इस बीच कोहरे का असर रेल व सड़क यातायात पर भी नजर आया। जींद से निकलने वाली अधिकांश ट्रेनें लेट रहीं। वहीं, रोडवेज बसें भी कोहरे के कारण समय से नहीं निकल सकीं। इससे ट्रेनों और बसों के इंतजार में बैठे यात्री सर्दी से कांपते रहे। शहर में भी जगह-जगह लोग अलाव के सहारे सर्दी से बचाव करते दिखे। सर्दी से लोग दिनभर परेशान रहे।

आगामी दिनों में गिरेगा तापमान

सन 2017 के अंतिम दिन कंपकंपा देने वाली सर्दी पड़ी। शनिवार रात से शुरू हुए घने कोहरे ने सुबह भी वाहनों की रफ्तार को थामे रखा। हेडलाइट जलाकर भी वाहन 20 की स्पीड से ज्यादा नहीं दौड़ सके। दोपहर तक घना कोहरा छाया रहा। हाईवे पर कुछ दूरी पर भी वाहन नजर नहीं आ रहे थे। मौसम विभाग के अनुसार आगामी दिनों में सर्दी बढ़ने वाली है। वर्ष 2018 के पहले दिन भी लोगों को कोहरा व ठिठुरन भरी सर्दी का सामना करना पड़ेगा। इस सप्ताह लगातार तापमान गिरने की संभावना है और छह जनवरी को जिले में न्यूनतम तापमान 3 डिग्री तक पहुंचने की उम्मीद है।

ठंड बेलवाली सब्जियों के लिए नुकसानदेय

कृषि विशेषज्ञों के अनुसार कोहरा गेहूं की फसल के लिए फायदेमंद रहेगा और गेहूं के उत्पादन को बढ़ाने में कारगार साबित हो गया। वहीं कोहरे के साथ बढ़ रही सर्दी बेल वाली सब्जियों को नुकसान पहुंचा सकती है। इसके लिए किसानों को बेल वाली सब्जियों को सर्दी से बचाने के लिए पराली डालकर या पानी देना चाहिए, ताकि पड़ने वाले पाले से बचाया जा सके।