# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
वर्ष 2017 घने कोहरे के साथ विदा हुआ

जेएनएन, हांसी (हिसार)। इटली की एक पेट्रोलियम कंपनी में इंजीनियर के पद पर कार्यरत ढाणी पाल के एक छोरे नमन ने इटली की गोरी मेम आरियाना के साथ धूमधाम से शादी रचाई। भारतीय संस्कृति से प्रभावित आरियाना और उसके परिवार ने इटली से यहां आकर हिंदू रीति-रिवाज से विवाह किया। इस दौरान भारतीय वेशभूषा दुल्हन बनी आरियाना सबका मनमाह रही थी1

- भारतीय संस्कृति से प्रेरित इटली के परिवार ने ङ्क्षहदू रीति-रिवाज से किया विवाह

धनबाद में एक साथ आइआइटी  करने के बाद एक ही कंपनी में जॉब करने से नमन व आरियाना के बीच दोस्ती हो गई और धीरे-धीरे दोनों की दोस्ती प्यार में बदल गई। आखिरकार उन्‍होंने जीवन साथी बनने का फैसला कर लिया।नमन ने अपने पैतृक गांव ढाणी पाल में आरियाना से शादी करने का निर्णय लिया और आरियाना व उनका परिवार भी इसके लिए सहर्ष तैयार हो गया।तय कार्यक्रम के अनुसार रविवार को श्री पंचायती रामलीला मैदान मैरिज पैलेस में दोनों की धूमधाम से शादी हुई। शादी हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार हुई और दुल्‍हा-दुल्‍हन ने अग्नि के सात फेरे लिये। इस दौरान शादी के परंपरागत रस्‍में हुईं। विवाह समारोह में इटली से आरियाना के पिता मोरियो सासिया व माता एलेना मोलिनेरी के अलावा उसकी तीन बहनें इसाबोला, लैथीयान व एलेशिया, मामा ब्रूनो व मामी भी शरीक हुए।

यह भी पढ़ें: नए साल पर झूमा हरियाणा, जमकर मना जश्‍न और देर रात तक चलीं पार्टियां

दूल्हे के पिता मर्चेंट नेवी में चीफ इंजीनियर

ढाणी पाल गांव निवासी व कृषि विभाग में चालक के पद से सेवानिवृत्त बनवारी लाल ने नौकरी के साथ-साथ खेतीबाड़ी करते हुए अपने छोटे भाई हुक्म चंद को अपने बलबूते पर पढ़ा-लिखा कर मर्चेंट नेवी में चीफ इंजीनियर के पद तक पहुंचा दिया। हुक्म चंद के पुत्र नमन ने एमटेक करने के बाद झारखंड के धनबाद शहर की आइआइटी से डिग्री हासिल की और इटली की एक पेट्रोलियम कंपनी में इंजीनियर बन गया।